मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

प्रयागराज, जेएनएन। इलाहाबाद विश्वविद्यालय में छात्रसंघ बहाली समेत पांच सूत्रीय मांगों के समर्थन में आंदोलनरत छात्रों पर मंगलवार को पुलिस ने सख्‍ती की। धरनास्‍थल से छात्रनेताओं व छात्रों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने उन्‍हें जबरन धरनास्‍थल से उठाया और लगभग घसीटते हुए वाहनों में डालकर उन्‍हें कैंट थाने ले जाया गया है। इस दौरान अफरा-तफरी का माहौल रहा। छात्रनेता और छात्र इविवि प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी करते रहे। इधर जानकारी होने पर थाने पर दर्जनों की संख्‍या में छात्र पहुंच गए।

पुलिस छावनी बना धरनास्‍थल
पिछले कई दिन से इलाहाबाद विश्वविद्यालय छात्रसंघ भवन के बाहर छात्रसंघ के निवर्तमान पदाधिकारियों के साथ छात्र विभिन्‍न मांगों को लेकर धरना दे रहे थे। इसमें छात्रसंघ बहाली समेत उनकी कई मांगें थी। मंगलवार की दोपहर में धरनास्‍थल पर पुलिस का जमावड़ा होने लगा। पहले पुलिस अधिकारियों ने छात्रनेताओं व छात्रों से धरनास्‍थल से हटने को कहा। काफी गुजारिश के बाद भी जब छात्र नहीं माने तो पुलिस ने बल प्रयोग किया। उन्‍हें जबरन धरनास्‍थल से खींचकर वाहनों में लादा गया। इसके बाद सभी कैंट थाने ले जाया गया। इस दौरान वहां छात्रों की भीड़ जुटने लगी।

इनकी हुई है गिरफ्तारी
विश्वविद्यालय छात्रसंघ के निवर्तमान अध्यक्ष उदय प्रकाश यादव, उपाध्यक्ष अखिलेश यादव, महामंत्री शिवम सिंह, पूर्व अध्यक्ष दिनेश सिंह यादव, पूर्व उपाध्यक्ष आदिल हमजा, पूर्व उपाध्यक्ष विक्रांत सिंह, छात्रसभा के जिलाध्यक्ष अखिलेश गुप्ता गुड्डू को पुलिस धरनास्‍थल से गिरफ्तार कर कैंट थाने ले गई है।

धरनारत छात्रों ने कुलपति की प्रतीकात्‍मक शवयात्रा निकाली थी
इविवि छात्रसंघ के निवर्तमान पदाधिकारियों समेत छात्रों ने सोमवार को कुुलपति प्रोफेसर रतन लाल हांगलू की प्रतिकात्‍मक शवयात्रा निकाली थी। इविवि परिसर के विभिन्‍न संकायों, कुलपति कार्यालय होते हुए छात्रसंघ भवन तक शवयात्रा ले गए। वहीं छात्रसंघ भवन के समक्ष अंतिम संस्‍कार का रस्‍म किया गया। छात्रसंघ के निवर्तमान उपाध्‍यक्ष अखिलेश यादव ने प्रतीकात्‍मक शव का बाकायदा अंतिम संस्‍कार किया। इस दौरान दर्जनों की संख्‍या में छात्र उपस्थित रहे। छात्रों ने मंगलवार को इसी को लेकर बाल बनवाने का भी निर्णय लिया था।

छात्रसंघ मामले में पूर्व पदाधिकारी भी हुए थे शामिल
छात्रनेताओं की इस लड़ाई में छात्रसंघ के पूर्व पदाधिकारी भी शामिल हो गए थे। विश्वविद्यालय छात्रसंघ भवन पर आयोजित धरने में छात्रसंघ के पूर्व पदाधिकारी भी शामिल हो गए थे। छात्रनेताओं ने बैठक कर आगे की रणनीति भी बनाई। पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष सतीश अग्रवाल, विनोद चंद्र दुबे और कृष्णमूर्ति सिंह यादव व पूर्व उपाध्यक्ष भोला सिंह ने भी छात्र एकता की बात कही थी।

Posted By: Brijesh Srivastava

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप