प्रयागराज, जेएनएन। पुलिस लाइंस स्थित फालोवर आवास में सोमवार की रात बड़ी घटना हो गई। अपनी पत्‍नी और मासूम बेटे की हत्‍या करने के बाद फालोअर ने खुद फांसी लगाकर आत्‍महत्‍या कर लिया। निर्ममता इस कदर वारदात स्‍थल पर दिखी कि पूछिए मत। गोविंद कुमार 52 ने पत्नी चंद्रा 50 और बेटे सुनील 3 की हथौड़े से वार कर हत्‍या की। इसके बाद वह खुद फांसी पर झूल गया। वारदात का पता तब लगा जब रात करीब साढ़े नौ बजे बेटा भरत घर पहुंचा। दरवाजा अंदर से बंद था। धक्का देकर दरवाजा खोलने पर अंदर का नजारा देखकर वह चीख पड़ा। खबर पाकर एडीजी, डीआइजी,एसएसपी समेत अन्य आलाधिकारी पहुंच गए। बताया जा रहा है कि गोविंद अपने बडे बेटे सुनील की मानसिक बीमारी की वजह से परेशान था।

जालौन में डकोर के चिल्ली गांव का रहने वाला था गोविंद

गोविंद कुशवाहा मूलरूप से जालौन जनपद के डकोर इलाके के चिल्ली गांव का रहने वाला था। पुलिस महकमे में फालोअर था। उसकी तैनाती इन दिनों डीआइजी ऑफिस में थी। वह पुलिस लाइन में फालोवर कॉलोनी में परिवार सहित रहता था। सोमवार रात गोविंद का छोटा बेटा भरत लगभग नौ बजे घर पहुंचा तो अंदर मां चंद्रा देवी और भाई सुनील का खून से लथपथ शव पड़ा था। जबकि पिता गोविंद फांसी के फंदे से झूल रहा था। कमरे के अंदर के हालात देख वह चीख पड़ा। चीख सुनकर आसपास के लोग भी आ गए।

बेटे की मानसिक बीमारी को लेकर परेशान रहता था

खबर पाकर एडीजी जोन सुजीत पांडेय, डीआइजी केपी सिंह, एसएसपी सत्यार्थ अनिरुद्ध पंकज मौके पर पहुंचे। पुलिस ने गोविंद के बेटे भरत से पूछताछ की। प्रारंभिक जांच में पता चला है कि  गोविंद अपने बेटे सुनील की मानसिक बीमारी को लेकर काफी परेशान था। 

Posted By: Brijesh Srivastava

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप