प्रयागराज, जेएनएन। जिले के सबसे बड़े पुल के निर्माण के लिए 31 हेक्टेयर जमीन भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआइ) को मुफ्त में दी जाएगी। ये जमीन पांच गांवों की ग्राम सभा की है। इसके लिए एनएचएआइ ने जिला प्रशासन से मांग की थी। डीएम की ओर से शासन को निश्शुल्क जमीन देने का प्रस्ताव भेज दिया गया है। माना जा रहा है कि जल्द ही प्रस्ताव पर शासन की मुहर लग जाएगी, जिसके बाद पुल का निर्माण भी शुरू हो जाएगा। उधर, जल्द ही पुल निर्माण का दिल्ली में टेंडर कराने की तैयारी शुरू हो गई है।

1948 करोड़ रुपये लागत से बनेगा अत्याधुनिक तकनीक का पुल

फाफामऊ से स्टेनली रोड तक  अत्याधुनिक तकनीक से बनने वाले इस पुल की लागत करीब 1948 करोड़ रुपये आएगी। इस नए पुल के निर्माण से प्रयागराज में एनएच-96 पर बने दो लेन के चंद्रशेखर आजाद फाफामऊ पुल पर भीड़भाड़ के दबाव की समस्या खत्म हो जाएगी। यह प्रदेश का पहला एक्स्ट्रा डोज पुल होगा, जो केबल और बाक्स मिलाकर बनेगा। यह सदर तथा सोरांव तहसील के नौ गांवों से होकर गुजरेगा। सोरांव तहसील के मोरहूं कछार, मोरहूं उपरहार, मलाक हरहर उपरहार, बेला कछार फाफामऊ तथा सदर तहसील के मेहदौरी कछार, म्योराबाद, असदुल्लापुर नकौली कछार, बेली कछार, बेली उपरहार गांव से होकर पुल गुजरेगा। इन गांवों में लगभग 31 हेक्टेयर जमीन ग्रामसभा की है जिसे निश्शुल्क देने के लिए कवायद शुरू हो गई है। जिला प्रशासन ने इसके लिए प्रस्ताव शासन को भेज दिया है। अफसरों की मानें तो जल्द ही शासन से मंजूरी मिल जाएगी।

अहम आंकड़े

-09 गांवों से होकर गुजरेगा प्रदेश का पहला एक्स्ट्रा डोज ब्रिज

-1948 करोड़ रुपये केंद्र सरकार ने इस पुल के लिए किया है मंजूर

-9.9 किमी के पुल को भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण बनवाएगा

-04 वर्ष में पुल निर्माण की समय सीमा की गई है निर्धारित

किसानों के जमीन के अधिग्रहण की प्रक्रिया अंतिम दौर में

जो जमीन किसानों की है, उसके अधिग्रहण की प्रक्रिया भी अंतिम दौर में है। यह नया सिक्स लेन पुल राष्ट्रीय राजमार्ग-27 और राष्ट्रीय राजमार्ग-76 के माध्यम से नैनी पुल से होकर मध्य प्रदेश, बुंदेलखंड, विंध्य क्षेत्र से आने वाले और लखनऊ व फैजाबाद जाने वाले यातायात के लिए सुविधाजनक होगा।

450 करोड़ रुपये की जमीन किसानों से खरीदी जाएगी

पुल के निर्माण के लिए 1448 करोड़ और जमीन अधिग्रहण के लिए 450 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे। अन्य कार्यों में खर्च के लिए लगभग 50 करोड़ रुपये का धन आवंटित किया गया है। सरकार के दिशा निर्देश के अनुरूप इस पुल को 48 महीने में पूरा किया जाएगा। गंगा पर पुल की लंबाई 3.83 किमी होगी जबकि पुल के दोनों ओर 5.23 किमी की सड़क बनेगी।

फाफामऊ और बेली में बनेगा फ्लाई ओवर

फाफामऊ में मलाक हरहर तिराहा, जहां से गंगा सेतु प्रस्तावित है, वहां लगभग 840 मीटर लंबाई का एक फ्लाई ओवर भी बनेगा। इस फ्लाई ओवर के जरिए फैजाबाद और प्रतापगढ़ की ओर से आने वाले वाहन सीधे गंगा सेतु पर पहुंच जाएंगे। इससे फाफामऊ बाजार और चंद्रशेखर आजाद सेतु पर लगने वाले जाम से बचा जा सकेगा। इसी तरह स्टेनली रोड गंगा कछार में पहुंचने पर पुल को लाजपत राय रोड चौराहे तक पहुंचाने के लिए बीच में नाले पर फ्लाई ओवर बनाया जाएगा। फाफामऊ में गंगा नदी पर बनने वाला यह पुल मलाक हरहर तिराहे से शहर में स्टेनली रोड पर लाला लाजपत राय रोड के पास बेली चौराहे पर खत्म होगा।

 

Posted By: Brijesh Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस