इलाहाबाद : इन दिनों शारदीय नवरात्र में हर ओर आस्था और विश्वास का समावेश दिख रहा है। शुक्रवार की सुबह से ही देवी मंदिरों में आस्था की गंगा बहने लगी। भक्तों ने मां का विधिवत दर्शन और पूजन किया।

नवरात्र के पहले दिन घरों समेत मंदिर और मठों में कलश स्थापित कर भक्तों ने मां दुर्गा का पूजन-अर्चन शुरू किया।

 कई भक्तों ने पूरे नवरात्र व्रत रखा है तो कई प्रतिपदा पर व्रत रखा था और महाअष्टमी पर व्रत रखेंगे। मीरापुर स्थित सिद्धपीठ ललिता देवी, मां खेमा माई, कल्याणी देवी, अलोपीबाग स्थित अलोपशंकरी समेत अन्य देवी मंदिरों में तांत्रिक अनुष्ठान किया जा रहा है। वहीं चौक स्थित मां खेमा माई मंदिर में मंत्रोच्चार के साथ नवरात्र में पूजन भक्तों द्वारा किया जा रा है। मां के दिव्य स्वरूप का दर्शन-पूजन करने को दूर-दूर से भक्त पहुंच रहे हैं।

देवी मंदिरों में धार्मिक अनुष्ठान :

नवरात्र के शुभ दिनों में भक्त विविध धार्मिक आयोजन भी करते हैं। देवी मंदिरों में बच्चों का मुंडन संस्कार हो रहा है तो वहीं मनौती मानने पर ध्वजा, पताका मां दुर्गा को अर्पित करने के लिए दूर-दूर से भक्त सिद्धपीठों में भक्तों की भीड़ अधिक संख्या में जुट रही है।

शतचंडी यज्ञ में डाली आहुति :

नवरात्र के हर दिन में मां के स्वरूप के अनुसार पूजन व श्रृंगार किया जा रहा है। मां ललिता देवी का दरबार चांदी से सजाया गया। मां के दर्शन-पूजन का सिलसिला देर रात तक जारी है। जनकल्याण को चल रहे शतचंडी यज्ञ में सामूहिक आहुतियां डाली जा रही हैं। इससे माहौल भक्तिमय हो उठा है।

सुगंधित पुष्पों से मां कल्याणी का श्रृंगार :

सिद्धपीठ मां कल्याणी देवी का श्रृंगार नवरात्र के दूसरे दिन पुष्पों और आभूषणों से किया गया है। मां दो भुजा में वैजयंती माला धारण किए थी और उनके एक हाथ में कमंडल था, सुगंधित पुष्पों की माला पहने मां भक्तों को दर्शन दे रही थीं। शाम को मां कल्याणी की शोभा निराली थी।

मां अलोपशंकरी मंदिर में भीड़ :

मां अलोपशंकरी मंदिर में दर्शन-पूजन करने वालों का तांता लग रहा है। दूर-दूर से आ रहे भक्तों ने मां के पालने में मत्था टेककर स्वयं के कल्याण की कामना की।

Posted By: Brijesh Srivastava