प्रयागराज, जेएनएन। शासन के निर्देश पर जिले के आठ घाटों पर बालू खनन पट्टे के लिए फिर से टेंडर निकाला जाएगा। दरअसल, लॉकडाउन के चलते इन घाटों की बोली नहीं लग सकी थी। इसके बाद तेजी से बालू खनन शुरू हो सकेगा, जिससे बालू श्रमिकों को काम मिलेगा और बालू का भाव भी गिरेगा।

इन पर भी डालें नजर

- जिले में गिरेगा बालू का भाव, गंगा, यमुना और टोंस में होंगे पट्टे

- लॉकडाउन में नहीं लगाई जा सकी थी बोली, फिर से निकलेगा टेंडर।

बालू के अवैध खनन आदि में गड़बड़ी से पांच अफसरों पर गिरी थी गाज

खनन विभाग के अफसरों की मनमानी और गड़बड़ी के चलते सभी पट्टïे निरस्त कर दिए गए थे। बालू के अवैध खनन, अवैध परिवहन और रवन्ना में गड़बड़ी के चलते पांच अफसरों पर गाज भी गिरी थी। इसके बाद पट्टïों का फिर से निर्धारण शुरू हुआ। दो पट्टे दिए जो संचालित हैैं। चार और घाटों पर खनन का पट्टा दिया, जल्द ही प्रमाण पत्र भी जारी होगा।

ये हैं कुछ खास बातें

05 अफसरों पर गिरी थी गड़बड़ी के चलते गाज

51 पट्टे थे बालू खनन के पहले जनपद में

150 करोड़ मिलेंगे खनन से प्रदेश सरकार को।

जिला खनन अधिकारी बोले, घाटों पर पट्टा के लिए टेंडर 10 जून को होगा

जिला खनन अधिकारी अंजनी कुमार सिंह ने बताया कि यमुना में बारा के मझियारी भंमौर, मानपुर, ओझा पट्टïी, बरहुला, गंगा में करछना में देवरख, मवैयाकला से चांड़ी तक, सेमरहा से रामपुर व लीलापुर से शहबाज तक, गंगा और टोंस के संगम से पकरी सेवार तक, उस्मानपुर से बढ़ौली (बहारपुर), परानीपुर प्रथम तथा परानीपुर तृतीय घाटों पर पट्टा के लिए टेंडर 10 जून को होगा। इन घाटों पर बालू खनन शुरू होने से 25 हजार से ज्यादा श्रमिकों को काम मिलेगा।

 

Posted By: Brijesh Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस