प्रयागराज, जेएनएन। माना जाता है कि संगमनगरी प्रयागराज का अंदाज ही जुदा है। देश के अन्य किसी भी क्षेत्र में भले ही बुधवार को चांद नहीं दिखा, लेकिन प्रयागराज में शहर के मुफ्ती ने देर रात चांद का दीदार होने की तस्दीक की। प्रयागराज में गुरुवार को अकीदत के साथ ईद मनाई जा रही है। तमाम हिस्सों में गुरुवार को अकीदत के साथ ईद मनाई जा रही है। यहां पर लोगों ने मस्जिदों में नमाज अदा करने के दौरान कोविड गाइड लाइन का पालन किया गया।

देश के ज्यादातर हिस्सों में ईद-उल-फितर का त्योहार कल पूरी अकीदत और एहतराम के साथ मनाया जाएगा, लेकिन संगम नगरी प्रयागराज के कुछ हिस्सों में ईद आज ही मनाई जा रही है। प्रयागराज के शहर काजी ने देर रात चांद देखने की तस्दीक करते हुए ईद आज ही मनाए जाने का ऐलान किया था। तब तक ज्यादातर लोग सो चुके थे और उन्हें इसकी खबर नहीं हुई। सुबह तक ऊहापोह की स्थिति कायम रही। प्रयागराज में हालांकि चांद के दीदार की तस्दीक के मसले पर लोग एक राय नहीं हैं और तमाम लोगों ने शुक्रवार को ईद मनाने की बात कही है। इसके बाद भी बड़ा वर्ग आज ही ईद मना रहा है।

यहां पर जामा मस्जिद, चौक में बुधवार देर रात तक ईद के चांद की तस्दीक के मसले पर उलेमाओं की बैठक चलती रही। सुन्नी मरकजी रूहते हेलाल कमेटी के कदीम व शहर काजी शफीक अहमद शरीफी, नायाब शहर काजी मुफ्ती मुजाहिद हुसैन रिजवी, नायाब शहर काजी और जामा मस्जिद चौक के इमाम रईस अख्तर ने कौशांबी के पुरखास से आए रोजेदार की शरई तस्दीक के हवाले से चांद दिखने की तस्दीक करते हुए गुरुवार को ईद मनाए जाने का ऐलान किया था। इसी कारण यहां पर बरेली मस्लक से जुड़े लोग ईद मना रहे हैं जबकि देवबंद से जुड़ी मस्जिदों से जुड़े लोगों ने शुक्रवार को ईद मनाने की बात कही है। रात एक बजे के बाद भी चौक में लोग सेवईं समेत अन्य सामान खरीदने के लिए पहुंचे थे।

कोरोना कर्फ्यू  के कारण यहां पर ईदगाह में भी आज चहल पहल नहीं के बराबर है।प्रयागराज में आज जामा मस्जिद समेत कई मस्जिदों में प्रोटोकॉल के साथ नमाज अदा की गई, जबकि ज्यादातर लोगों ने घरों पर ही नमाज पढ़ी। मस्जिदों में नमाज के वक्त डिस्टेंसिंग का पूरी तरह से पालन किया गया। ईद की नमाज के मद्देनजर शहर में आज सुरक्षा के कड़े इंतजाम हैं। रास्तों को बैरिकेड कर दिया गया। पुलिसकर्मी लगातार गश्त कर रहे हैं। प्रशासन और धर्मगुरुओं ने भी यहां लोगों से घर पर ही नमाज अदा करने की अपील पहले ही कर दी थी।  इस दौरान देश और दुनिया से कोरोना की महामारी के खात्मे के लिए खास तौर पर दुआएं की गई।

प्रयागराज में लोगों ने पहले ही ईद का त्योहार सादगी के साथ मनाने का ऐलान किया था। आज सिर्फ बरेलवी मसलक के लोग ही ईद मना रहे हैं, जबकि देवबंदी व शिया समुदाय के लोग कल ईद मनाएंगे। कोरोना महामारी को देखते हुए नमाज पढ़ने के बाद आज लोग ना तो एक दूसरे से गले मिले और ना ही हाथ मिलाकर त्योहार की मुबारकबाद दे रहे हैं। 

देश में कहीं भी नहीं दिखा था देर शाम तक चांद: काजी-ए-शहर मुफ्ती शफीक अहमद शरीफी सहित समस्त उलमाओं ने मुसलमानों से चांद देखने की अपील की थी। चांद की तस्दीक होने पर जारी किए गए नंबरों पर कॉल करना था। उम्मुल मोबनीन सोसायटी के महासचिव सै. मो. अस्करी के मुताबिक देश में कहीं से भी चांद दिखने की सूचना नहीं मिली। उलमाओं ने मुसलमानों से कोविड-19 गाइडलाइन का पालन करते हुए घरों पर ही ईद की नमाज पढ़ने की अपील की। मस्जिदों में चुनिंदा लोगों को मास्क लगाकर प्रवेश दिया जाएगा। हालांकि इसके बाद देर रात शहर मुफ्ती की ओऱ से ऐलान किया गया कि ईद का चांद देखा गया है। शहर मुफ्ती शफीक अहमद ने तस्दीक कर दी कि गुरूवार को ईद मनाई जाएगी। इसके बाद ईद की मुबारक बाद दी जाने लगी।