प्रयागराज, जागरण संवाददाता। 69 हजार शिक्षक भर्ती घोटाले में जेल में बंद शिक्षा माफिया केएल पटेल के ममफोर्डगंज स्थित दो आलीशान मकान को शुक्रवार को कुर्क कर दिया गया। इसकी कीमत करीब 10 करोड़ रुपये है। यह कार्रवाई गैंगस्टर एक्ट के तहत दर्ज रिपोर्ट के तहत की जा रही है। यह संपत्तियां उसने खुद और भाई नन्दलाल के नाम पर खरीदी थी।

मम्फोर्डगंज में खुद और भाई के नाम खरीदा था दो मकान

बहरिया के कपसा निवासीी केएल पटेल उर्फ कृष्ण लाल पटेल प्रतियोगी परीक्षाओं में अभ्यर्थियों से मोटी रकम लेकर उनको पास कराने का ठेका लेता था। उसने पूरा गिरोह बना रखा था, जिसका सरगना वह खुद था। शिक्षक, रेलवे, लेखपाल आदि भर्तियों में उसने अभ्यर्थियों से लाखों रुपये लिए थे। 69 हजार शिक्षक भर्ती में किए गए फर्जीवाड़े में उसका नाम सामने आया था। उसके गैंग के कई गुर्गे गिरफ्तार किए गए थे। एसटीएफ और शिवकुटी पुलिस ने केएल पटेल को जून 2020 में गिरफ्तार किया था। शिवकुटी पुलिस ने उस पर गैंगस्टर के तहत कार्रवाई की थी। पुलिस ने उसकी बेनामी संपत्तियों की जांच शुरू की तो पता चला कि मम्फोर्डगंज में उसका दो आलीशान मकान है। अपराध से अर्जित धन से उसने खुद और भाई नंदलाल के नाम यह दोनों संपत्ति खरीदी है।

मुनादी कराते हुए दोनों संपत्तियों को कुर्क किया पुलिस ने

शिवकुटी पुलिस ने इसकी जांच की और फिर रिपोर्ट डीएम को भेजी। डीएम ने कुर्क करने का आदेश दिया। शुक्रवार को एसपी सिटी संतोष कुमार मीना, सीओ कर्नलगंज राजेश यादव, एसओ शिवकुटी मनीष त्रिपाठी के साथ ही प्रशासन अधिकारी मम्फोर्डगंज स्थित शिक्षा माफिया के दोनाें मकानों पर पहुंचे। यहां मुनादी कराते हुए दोनों संपत्तियों को कुर्क कर दिया गया। एसपी सिटी संतोष कुमार मीना ने बताया कि इन दोनों संपत्तियों को कुर्क कराने के साथ ही शिक्षा माफिया की अन्य संपत्तियों का भी पता लगाया जा रहा है।

Edited By: Ankur Tripathi

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट