प्रयागराज : दर्द से कराहते मरीजों को जिले के प्रमुख सीएचसी में ऑपरेशन की सुविधा नहीं मिल पा रही है। यह सुविधा देने की शासन की मंशा जिले में पूरी नहीं हो रही है। चिकित्सकों की संख्या कम होने से विशेषज्ञ चिकित्सक, सर्जन और एनेस्थेटिक की तैनाती विभाग नहीं कर पा रहा है।

ऑपरेशन वाले मामलों में प्रतापगढ़ जिले के रेफरल सामुदायिक स्वास्थ केंद्र पट्टी, लालगंज, कुंडा मरीजों की उम्मीदों पर खरे नहीं उतर रहे हैं। यहां पर स्थाई सर्जन न होने से नियमित ढंग से ऑपरेशन नहीं हो पाते। इधर से उधर चिकित्सकों को अटैच करके काम तो चलाया जाता है, लेकिन यह बहुत कारगर नहीं है।

ऐसे में मरीजों को जिला अस्पताल और महिला अस्पताल या फिर निजी अस्पतालों में जाना पड़ता है। इससे यहां मरीजों को अनावश्यक भागदौड़ और अधिक खर्च करना पड़ता है। इस तरह की समस्या को लेकर विभाग ने शासन को चिकित्सकों की डिमांड भेजी। रेफरल सेंटरों पर विशेषज्ञ चिकित्सकों और सर्जन के साथ ही बेहोशी के डाक्टर की तैनाती का आदेश दिया।

इस कड़ी में प्रतापगढ़ के उक्त तीन सीएचसी में भी तैनाती करने को सीएमओ को कहा गया, लेकिन शासन के आदेश को पूरा करने में विभाग ने हाथ खड़े कर दिए। डॉक्टर की कमी से समस्या विकट हो गई। जिले में इस समय 58 डॉक्टरों की कमी है। ऐसे में सीएचसी में स्टाफ पूरा किया जाना मुश्किल है।

इस बारे में सीएमओ डॉ. एके श्रीवास्तव का कहना है कि शासन को इस समस्या की रिपोर्ट भेज दी है। उन्होंने कहा कि जिले में चिकित्सकों की चल रही कमी को दूर किए बगैर रेफरल सेंटरों में संसाधन उपलब्ध करा पाना मुश्किल होगा।

Posted By: Jagran