प्रयागराज,जेएनएन। सूबेदारगंज में बने ईस्टर्न डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर (ईडीएफसी) के ऑपरेशन कंट्रोल सेंटर का उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से कराने को लेकर अभी तक ऊहापोह की स्थिति है। डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर कारर्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (डीएफसीसीआइएल) ने प्रधानमंत्री कार्यालय में जो पत्र भेजा था, उसका जवाब नहीं आया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 29 फरवरी को प्रयागराज आ रहे हैं।

एशिया का दूसरा सबसे बड़ा कंट्रोल रूम

मालगाडिय़ों को अलग ट्रैक पर चलाने के लिए दो ईडीएफसी बनाया जा रहा है। एक ईस्टर्न और दूसरा वेस्टर्न। ईस्टर्न कॉरिडोर पंजाब के लुधियाना से लेकर पश्चिम बंगाल के दानकुनी (हावड़ा) तक बन रहा है। 1856 किलोमीटर लंबे कॉरिडोर का कंट्रोल रूम सूबेदारगंज में बनाया गया है। सितंबर 2019 से यह कंट्रोल रूम ट्रायल के आधार पर संचालित हो रहा है। डेढ़ महीने पहले डीएफसीसीआइएल ने प्रधानमंत्री कार्यालय में पत्र भेजकर इस कंट्रोल रूम का उद्घाटन उनसे कराने की गुजारिश की थी। एशिया के दूसरे सबसे बड़े कंट्रोल रूम का उद्घाटन पीएम करेंगे, इसकी पूरी संभावना मानकर डीएफसीसीआइएल ने तैयारी भी की है।

पीएमओ से अभी तक नहीं आई कोई सूचना

पिछले सप्ताह डीएफसीसीआइएल के मैनेजिंग डायरेक्टर अनुराग सचान भी कंट्रोल रूम का निरीक्षण कर चुके हैं। उन्होंने पूरी उम्मीद जताई थी कि प्रधानमंत्री कंट्रोल रूम का उद्घाटन कर सकते हैं। अब जबकि प्रधानमंत्री को प्रयागराज आने में चार दिन शेष हैं, अभी तक पीएमओ से कंट्रोल रूम के उद्घाटन के संबंध में कोई सूचना नहीं आई है। डीएफसीसीआइएल के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी वेद प्रकाश का कहना है कि उनकी पूरी तैयारी है। जैसे ही पीएमओ से पत्र जारी होता है, लगभग 75 करोड़ रुपये की लागत से 13,030 वर्ग मीटर क्षेत्रफल में बने कंट्रोल रूम के उद्घाटन की तैयारी को अंतिम रूप देने में जुट जाएंगे।

Posted By: Brijesh Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस