प्रयागराज : धान क्रय केंद्र पर अव्यवस्था को लेकर दस दिन से चलाए जा रहे जागरण अभियान को गंभीरता से लेते हुए प्रतापगढ़ के जिलाधिकारी शभु कुमार ने गुरुवार को महुली मंडी पहुंचे और धान क्रय केंद्र का निरीक्षण किया। निरीक्षण में जिलाधिकारी ने यह पाया कि धान क्रय केंद्र पर धान खरीद की शुरूआत नहीं की गई थी। जिलाधिकारी ने वहा पर उपस्थित जिला खाद्य विपणन अधिकारी यूपी सिंह सिसोदिया को निर्देशित किया कि जो किसान मौके पर धान विक्रय के लिए आये हैं, उनके धान के क्रय की शुरूआत कर कर ली जाए। उन्होंने धान क्रय केंद्र के संबंध में व्यापक स्तर पर प्रचार प्रसार करने के लिए डिप्टी आरएमओ एवं संबंधित एमआइ को निर्देशित किया। उन्होंने धान क्रय के समय प्रयोग होने वाले उपकरण काटा, झन्ना, लैपटाप आदि सिस्टम को भी व्यवस्थित ढंग से कर लेने के निर्देश दिए। उन्होंने वहा पर धान को नमी मापक संयंत्र में डालकर जांच किया। किसान करें शिकायत :

धान क्रय केंद्र संबंधी किसी भी प्रकार की शिकायत या समस्या होने पर किसान बंधु डिप्टी आरएमओ के मोबाइल नम्बर-7839564979 पर सूचित कर सकते हैं। दस दिन बाद क्रय केंद्र खुला, अब किसान गायब :

अपनी विभिन्न मागों को लेकर हड़ताल पर चल रहे धान क्रय केंद्रों के प्रभारी हड़ताल से लौटे और गुरुवार को क्रय केंद्रों का ताला खोल दिया। वहीं दूसरी ओर दस दिन से लौटा दिए जा रहे आक्रोशित किसान नहीं दिखे। अपनी 22 सूत्रीय मागों को लेकर बीते पाच नवंबर से धान क्रय केंद्रों पर ताला लटक रहा था। वहीं पिछले दस दिनों से किसान प्रतिदिन क्रय केंद्र पहुंच रहे थे। उन्हें कोई संतोषजनक जवाब नहीं दिया जा रहा था। ऐसे में बुधवार को कर्मचारी हड़ताल से लौटे और गुरुवार को तहसील क्षेत्र के धान क्रय केंद्रो का ताला खुला। सुबह से शाम तक कर्मचारी धान खरीद कराने के लिए बैठे रहे, लेकिन एक भी किसान नहीं पहुंचा। विपणन अधिकारी कुंडा प्रदीप कुमार त्यागी का कहना है कि धान क्रय केंद्र खोल जा रहे हैं, किसान अपनी फसल बेच सकते है। जागरण पिछले दस दिनों से धान क्रय केंद्रों की अव्यवस्था को लेकर अभियान चला रहा है, मगर अधिकारियों के कानों पर जूं नहीं रेंग रही थी। वहीं कर्मचारी भी हड़ताल पर चल रहे थे। हालाकि जागरण अभियान का प्रभाव हुआ और प्रशासन ने अब धान क्रय केंद्रों पर धान खरीद को लेकर गंभीरता दिखानी शुरू कर दी है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप