प्रयागराज, जेएनएन। शहर के राजरूपपुर स्थित जगवंती देवी बाल संरक्षण केंद्र में बालक के साथ कथित यौन शोषण के मामले में बाल कल्याण समिति (सीडब्ल्यूसी) के चेयरमैन पर कार्रवाई की तलवार लटकने लगी है। डीएम संजय कुमार खत्री ने चेयरमैन अखिलेश मिश्र के खिलाफ कार्रवाई के लिए शासन को रिपोर्ट भेज दी है।

समीक्षा के दौरान डीएम के सामने आई यह बात

अब इस प्रकरण पर गौर करिए। बुधवार की शाम डीएम ने बाल कल्याण समिति के कार्यों की समीक्षा की थी। समीक्षा बैठक के बाद ही जगवंती देवी बाल संरक्षण गृह राजरूपपुर में एक बालक का यौन उत्पीडऩ का मामला प्रसारित हो गया। यौन शोषण का मामला बाल कल्याण समिति की रिपोर्ट के माध्यम से सामने आया था। यही नहीं बालकों और किशोरियों के साथ मारपीट तथा अव्यवस्था का भी मामला उजागर हुआ था।

दो कमेटियों से जांच कराने में सच आया सामने

इस मामले में डीएम ने सच्चाई सामने लाने के लिए दो कमेटियों से जांच कराई। दोनों कमेटियों की जांच में अव्यवस्था और मारपीट के प्रकरण तो सामने आए मगर यौन उत्पीडऩ का साक्ष्य नहीं मिला। इतना ही नहीं, यौन शोषण की कथित शिकायत पर न तो जांच कराई गई और न पीड़ित का बयान दर्ज किया गया, बस रिपोर्ट बना दी गई।

इस पर कमेटियों ने गुरुवार शाम बाल कल्याण समिति के चेयरमैन के खिलाफ कार्रवाई की संस्तुति करते हुए डीएम को रिपोर्ट दी। शुक्रवार को डीएम ने चेयरमैन के खिलाफ कार्रवाई के लिए प्रमुख सचिव महिला कल्याण विभाग को रिपोर्ट भेज दिया।

नाश्ता-भोजन व सफाई की मानीटरिंग

जिला प्रोबेशन अधिकारी पंकज मिश्र ने बताया कि बाल संरक्षण गृह में नाश्ता-भोजन, सफाई व इलाज की उचित व्यवस्था के लिए एक हफ्ते तक लगातार मानीटरिंग होगी। शुक्रवार को बाल संरक्षण अधिकारी ज्योत्सना त्रिपाठी और परामर्शदाता रूबी मेराज ने निरीक्षण किया।

Edited By: Ankur Tripathi