प्रयागराज, जेएनएन। पीएम नरेंद्र मोदी का 29 फरवरी को प्रयागराज आगमन है। प्रधानमंत्री से मिलने का न्‍योता मिलने पर दिव्‍यांग फूले नहीं समा रहे हैं। उन्‍हें बेसब्री से मुलाकात के क्षण का इंतजार कर रहे हैं।  मुलाकात की सूची में शामिल होने वाले दिव्यांगजनों की बात तो पूछिए ही मत। दिव्यांगों ने तय किया है कि वे प्रधानमंत्री के सामने देश की सेवा का संकल्प भी लेंगे। प्रधानमंत्री को यह आश्वस्त भी करेंगे वह भी देश की आन, बान और शान के लिए हमेशा खड़े रहेंगे।

प्रधानमंत्री ने दिव्‍यांगों से मिलने की जताई इच्‍छा

प्रधानमंत्री की मौजूदगी में 29 फरवरी को परेड मैदान में लगभग 27 हजार लाभार्थियों को उपकरण प्रदान किए जाएंगे। इसमें तीन सौ लाभार्थियों से प्रधानमंत्री ने मिलने की इच्छा जताई तो इसकी तैयारियां तेज हो गईं। यमुनापार के करछना और कौंधियारा के सबसे ज्यादा लाभार्थी हैैं। कौंधियारा के कुल्हडिय़ा गांव निवासी मुन्नालाल पटेल के मुताबिक प्रधानमंत्री को बताएंगे कि वह स्वच्छता अभियान में पूरा योगदान दे रहे हैैं। पैर से दिव्यांग 34 वर्षीय मुन्ना घरवालों के साथ बटाई पर खेती करते हैैं। कहते हैैं कि परिवार के लोगों के लिए ही नहीं, देशवासियों के लिए भी वह खाद्यान्न उत्पादन में अपना योगदान देते हैैं। करछना के रवनिका गांव निवासी वंदना मौर्य के अनुसार वह प्रधानमंत्री को बताएंगी कि स्वच्छता अभियान को लेकर गांव के लोगों को किस तरह जागरूक कर रही हैैं।

खास बातें

03 सौ दिव्यांगों से मिलेंगे प्रधानमंत्री, सबसे ज्यादा यमुनापार के लाभार्थी

02 सौ दिव्यांगों की हो चुकी ट्रेनिंग, सौ को आज दिया जाएगा प्रशिक्षण

28 फरवरी की शाम शहर बुला लिए जाएंगे सभी तीन सौ लाभार्थी।

देश को मजबूत करने के लिए हर प्रयास करेंगे

करछना के खजुरी गांव निवासी कन्हैयालाल कहते हैैं कि उनके लिए बेहद खास क्षण होगा, जब प्रधानमंत्री से मुलाकात करेंगे। पैर से दिव्यांग कन्हैया खेती के काम में परिवार के लोगों का हाथ बटाते हैैं। मांडा के भरारी गांव निवासी बबलेश दोनों पैर से दिव्यांग हैैं। उनका कहना है कि वह भी देश को मजबूत करने के लिए हर प्रयास करेंगे। इसका पीएम मोदी को आश्वासन देंगे। सैदाबाद के चिंतावनपुर निवासी बृजलाल भी पीएम से बातचीत करने की तैयारी में जुटे हैैं। कहते हैैं कि वह दिव्यांगों को इतना सम्मान दिए जाने के लिए प्रधानमंत्री के सामने उनके प्रति आभार प्रकट करेंगे। निराश्रित बृजलाल 82 वर्ष के हो चुके हैैं। बच्चे नहीं हैं। पत्नी जयराजी की लगभग 20 वर्ष पहले निधन हो गया था। कोरांव के कैथवल निवासी नीरज तिवारी ने कहा कि प्रधानमंत्री जिस तरह दिव्यांगों व बेटियों के लिए इतनी योजनाएं व अभियान चला रहे हैैं, उससे देश मजबूत होगा।

 

Posted By: Brijesh Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस