प्रयागराज, प्रयागराज। दिल्ली की 30 हजारी कोर्ट में हुई घटना से जिला न्‍यायालय के अधिवक्‍ता आक्रोशित हैं। नाराज वकील शुक्रवार को कचहरी में हड़ताल पर हैं। इस दौरान जिला अधिवक्ता संघ के पदाधिकारियों के साथ ही अधिवक्‍ताओं ने अपना विरोध जताया है। इस दौरान काफी संख्‍या में वकील उपस्थित हैं।

जिला अधिवक्ता संघ ने जताया विरोध

अधिवक्‍ताओं ने गुरुवार को जिला अधिवक्ता संघ की बैठक में कार्य बहिष्कार का निर्णय लिया गया था। जिला अधिवक्‍ता संघ के अध्यक्ष हरिसागर मिश्रा व मंत्री राकेश दुबे ने कहा कि दिल्ली की बर्बर घटना के विरोध में उत्तर प्रदेश बार कौंसिल के आह्वान पर आठ नवंबर को हड़ताल की गई है। अधिवक्ताओं ने इस दौरान सात सूत्रीय ज्ञापन जिलाधिकारी के जरिए मुख्यमंत्री को सौंपा।

अधिवक्ताओं की प्रमुख मांग 

- पुलिस फायरिंग में घायल वकीलों को 10 लाख की आर्थिक मदद दी जाए

- इस मामले में तीन माह के भीतर जांच पूरी हो।

- प्रदेश में जिन अधिवक्ताओं की हत्या हुई है, उनके आरोपितों को दंडित किया जाए।

- पीडि़त परिवार को 20 लाख की आर्थिक मदद भी दी जाए।

- नए अधिवक्ताओं को प्रोत्साहन भत्ता मिले।

- उप्र अधिवक्ता कल्याण निधि में लंबित अधिवक्तागण के प्रार्थना पत्रों का शीघ्र निस्तारण हो।

- अधिवक्ता भविष्य निधि की राशि सवा लाख से बढ़ाकर पांच लाख रुपये की जाए।

- कोई भी पुलिस अधिकारी या सिपाही शस्त्र लेकर जिला न्यायालय परिसर में प्रवेश न करे।

- अधिवक्ताओं की सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए जाएं।

- अधिवक्ता सुरक्षा अधिनियम शीघ्र पास किया जाए।

Posted By: Brijesh Srivastava

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप