प्रयागराज : नागरिक मूल्यांकन प्रतिष्ठान की ओर से कुंभ मेला स्थित मीडिया सेंटर में 'कुंभ एक अनुभवÓ विषय पर परिचर्चा आयोजित की गई। इसमें जुटे लोगों ने कुंभ के अनुभवों को साझा किया। इसे भव्य कुंभ बताते हुए कुछ सुधार की ओर भी इशारा किया।

चुनौती भरा कार्य सौंपा गया था : डीएम विजय किरन

परिचर्चा में मेला डीएम विजय किरन आनंद ने कहा कि लगभग डेढ़ वर्ष पहले उन्हें चुनौती भरा कार्य सौंपा गया था। कुंभ के कार्यों के लिए योजना बनाई फिर टीम तैयार की। दिन-रात कार्य करके बेहतर व्यवस्था के संकल्प के साथ कुंभ की संरचना को अमली जामा पहनाया गया। उन्होंने मेला आयोजन में मीडिया की भूमिका की प्रशंसा की।

विश्व पटल पर साख बढ़ा रहा है कुंभ

अन्य वक्ताओं ने कहा कि कुंभ विश्व पटल पर अपनी साख बढ़ा रहा है। दुनिया भर से आकर लोग यहां की व्यवस्था देख रहे हैं। इससे पर्यटन भी बढ़ रहा है। मेले में सामाजिक उत्थान के कार्य भी हो रहे हैं। इसी क्रम में नेत्र कुंभ ने सबसे ज्यादा सुर्खियां बटोरी। वक्ताओं ने कहा कि मेले का विस्तार तीर्थ यात्रियों और संगम स्नान को आने वालों के लिए उपयुक्त नहीं रहा। उन्हें काफी पैदल चलना पड़ा। आगे इस तरह का प्रबंध हो कि श्रद्धालुओं को कम से कम पैदल चलना पड़े।

वक्ताओं ने कहा, वीआइपी मूवमेंट से लोग हुए परेशान

वक्ताओं ने कहा कि एडवाइजरी जारी होने के बाद भी मेले में वीआइपी मूवमेंट लगातार बना रहा। इससे आम लोगों को समस्या हुई। अचानक यातायात डायवर्जन और प्रतिबंध बड़ी समस्या रही। मेले में स्वच्छता, सुरक्षा एवं रैन बसेरों की तारीफ की गई। इसमें डॉ. रश्मि, वीरेंद्र पाठक, एडीएम सीपी तिवारी, सुशील तिवारी, डॉ.सर्वेश दुबे, विनोद चंद्र दुबे, उप निदेशक सूचना संजय राय एवं अजय शर्मा, गरुण कमांडो सत्यम, अरविंद पांडे, शशिकांत मिश्रा, प्रमोद शुक्ला, विनय चंद्र श्रीवास्तव, हरेराम गुप्ता, डॉ.प्रमोद शुक्ला, सौरभ मिश्रा, गौरव द्विवेदी ने विचार व्यक्त किए। इनसे साथ शंभूनाथ इंस्टीट्यूट के छात्रों नेे भी विचार व्यक्त किए। धन्यवाद ज्ञापन डॉ. प्रमोद शुक्ला ने किया।

 

Posted By: Brijesh Srivastava

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप