प्रयागराज, जेएनएन। प्रतापगढ़ जनपद में डेंगू ने एक बार फिर असर दिखाया है। बरसात होने पर भरे पानी में पल रहे डेंगू के मच्छरों ने तीन दिन में जहां 13 लोगों को संक्रमित कर दिया, वहीं एक युवक की जान चली गई। कुंडा में यह संक्रमण अधिक असर दिखा रहा है। इससे छिड़काव के दावे पर सवाल खड़ा हाे रहा है।

प्रतापगढ़ जनपद में अब तक संक्रमण से तीन की जा चुकी जान

गुरुवार को आई जांच रिपोर्ट में बताया गया कि मंगलवार, बुधवार व गुरुवार को जनपद में कुल 13 लोग संक्रमित मिले। इनमें से महेशगंज के 28 साल के रोहित कुमार की जान चली गई। वह कई दिन से बुखार से पीड़ित था। लैब में जांच होने पर डेंगू की पुष्टि हुई। बुधवार रात उसने दम तोड़ दिया। जो बीमार हैं उनमें शुभम लक्ष्मणपुर, चंदन यादव अमरगढ़, रवि मौर्य पट्टी, गीता कुंडा, राधेश्याम कुंडा,चंदन यादव जगदीशपुर, शिवांगी मानधाता, प्रकाश सिंह नगर, शिवम कुमार रंजीतपुर, अंशू व नीलेश कुमार कुंडा के हैं। डेंगू से जनपद में यह तीसरी मौत है। इसके पहले पट्टी में एक बच्चे व प्राइमरी के शिक्षक ने दम तोड़ दिया था। सीएमओ डा. जीएम शुक्ल का कहना है कि जहां केस मिल रहे हैं वहां के लोगों के रक्त नमूने लेकर जांच कराई जाती है।

दिल्ली से लेकर आया जानलेवा संक्रमण

संग्रामगढ़ के मजीजनपुर मोहल्ला निवासी उमेश पटेल दिल्ली में रहता था। वहां पर वह प्राइवेट कंपनी में काम करता था। कुछ दिन पहले उसे बुखार की शिकायत हुई तो वह वहां पर दवा लेने लगा, लेकिन कोई आराम नहीं हुआ। इसके बाद चार दिन पूर्व वह घर संग्रामगढ़ आ गया। वहां पर इलाज कराना शुरू किया, लेकिन उसकी हालत में सुधार नहीं हुआ। इसके बाद स्वजन गुरुवार को कुंडा सीएचसी लेकर पहुंचे। वहां पर चिकित्सकों ने जब सकी जांच कराई तो उसे डेंगू निकला। उसकी पूरी शरीर टूट रही थी। डा. राजेश ने बताया कि उसे डेंगू के लक्षण पाए गए हैं, जिसका इलाज किया जा रहा है।

Edited By: Ankur Tripathi

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट