प्रयागराज, जेएनएन। मेजा के एक गांव में किशोरी की रहस्यमय परिस्थितियों हुई हत्या की गुत्थी सुलझने का नाम नहीं ले रही है। गोताखोर गंगा की खाक छानते रहे लेकिन उन्हें किशोरी का शव नहीं मिला। किशोरी की मां ने जिन चार युवकों के खिलाफ शिकायत की थी, मेजा पुलिस उनमें से दो को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है। हालांकि पुलिस की जांच ऑनर किलिंग पर ही टिकी है।

क्या था मामला
मेजा के गांव की एक महिला ने गुरुवार को कोतवाली में बेटी का अपहरण कर दुष्कर्म करने एवं बाद में उसकी हत्या करने का आरोप गांव के ही चार युवकों पर लगाया। महिला ने एक वीडियो भी पुलिस को सौंपा जिसमें 9 मई को आरोपी चारों युवक उनकी बेटी से जोर जबरदस्ती कर रहे थे। इंस्पेक्टर मेजा मनोज कुमार पाठक एवं चौकी इंचार्ज जेवनिया ने गांव जाकर पड़ताल की। जांच के दौरान पुलिस को एक अन्य वीडियो मिला जिसमें किशोरी का भाई स्वीकार कर रहा है कि उसने मड़हे में हत्या कर बहन के शव को ईंट-पत्थर से बांध कर गंगा में फेंक दिया है। 

शव फेंके हुए नौ दिन बीत गए हैं
पुलिस ने किशोरी की मां द्वारा आरोपित चारों युवकों के घर दबिश दी लेकिन वह गायब हैं। उधर गोताखोरों एवं स्थानीय मछुवारों की मदद से किशोरी के भाई द्वारा चिह्नित स्थान के आस-पास शव ढूंढने का मशक्कत करते रहे लेकिन उन्हें सफलता नहीं मिली। गोताखोरों की मानें तो हत्या कर शव फेंके हुए नौ दिन बीत गए हैं। ऐसे में हो सकता है कि शव बालू के नीचे दब गया हो या मछलियों ने खा लिया हो। मामले को लेकर मेजा पुलिस ने गांव के अन्य लोगों से भी हत्या की गुत्थी सुलझाने को लेकर पूछताछ कर रही है। उधर किशोरी के भाई, माता एवं पिता से कोतवाली में पूछताछ की जा रही है। जिसमें माता पिता तो आनर किलिंग से इंकार कर रहे हैं जबकि भाई हत्या कर शव गंगा में डालने की बात कह रहा है। 

 बोले इंस्पेक्टर मेजा
इंस्पेक्टर मेजा मनोज कुमार पाठक के मुताबिक फिलहाल ऑनर किलिंग का मामला ही लग रहा है। शव अब तक नहीं मिल सका है। परिजनों की शिकायत पर गांव के दो युवकों से भी पूछताछ की जा रही है। वह लोग घटना में शामिल होने से इन्कार कर रहे हैं।

 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Brijesh Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस