प्रयागराज, जागरण संवाददाता। साइबर अपराधी लगातार लोगों की जेब पर डाका डाल रहे हैं। अब शातिरों ने रेलवे सुरक्षा बल के हेड कांस्टेबल समेत चार लोगों को शिकार बनाया है। अपराधियों ने अलग-अलग झांसा देकर आनलाइन ठगी की। भुक्तभोगियों ने पुलिस थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई है। इसके पहले रिटायर्ड प्रोफेसर और असिस्टेंट प्रोफेसर समेत आठ लोगों को पिछले हफ्ते भी शिकार बनाया गया था। इंटरनेट के जरिए लगातार हो रही इन घटनाओं से लोगों में भय पैदा होने लगा है कि उन्हें भी बड़ा झटका नहीं लग जाए।

एटीएम कार्ड क्लोन कर उड़ा दी रकम

शहर कोतवाली क्षेत्र के ललित नगर कालोनी में हेड कांस्टेबल मनोज कुमार पांडेय रहते हैं। उन्होंने पुलिस को बताया कि एटीएम कार्ड उनके पास था। मगर इसी बीच किसी ने उनके खाते से 45 हजार रुपये गायब कर दिए। इससे परेशान मनोज ने कोतवाली में मुकदमा दर्ज कराया। करेली के करामत चौकी मोहल्ले में रहने वाली संगीता गौड़ से भी करीब 19 हजार रुपये की ठगी की गई। संगीता ने आदित्य बिरला कंपनी से लोन के लिए आवेदन किया था। उनके पास विनोद वर्मा नामक व्यक्ति ने फोन किया। बताया कि लोन की फाइल आगे बढ़ाने के लिए 2150 हजार रुपये आनलाइन ट्रांफसर कर दीजिए। इसके बाद उसने प्रोसेसिंग फीस और दूसरे काम के लिए करीब 19 हजार रुपये ले लिए। मगर जब उन्हें सच्चाई का पता चला तो हतप्रभ रह गईं।

कैसे निकल गए पैसे, पीड़ित हैं हतप्रभ

शिवकुटी के ओम गायत्री नगर निवासी वीरेंद्र नाथ मिश्रा के खाते से भी साइबर शातिरों ने दो बार में 15 हजार रुपये उड़ा दिए। वीरेंद्र सिंह का खाता बैंक आफ बड़ौदा में है और एटीएम कार्ड भी उनके पास सुरक्षित रखा था। इसके बावजूद न जाने कैसे खाते से पैसे निकल गए। इसी तरह जीटीबी नगर करेली के अजहर हशमत के खाते से भी 55 हजार रुपये निकाले गए। पुलिस का कहना है कि मुकदमा दर्ज कर साइबर सेल की मदद से जांच की जा रही है।

Edited By: Ankur Tripathi