प्रयागराज, जेएनएन। नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के समर्थन में निकाली गई तिरंगा यात्रा में सड़कों पर लोग उमड़े पड़े। इस ऐतिहासिक यात्रा में हर ओर वंदेमातरम् और भारत माता की जय का उद्घोष होता रहा। भाजपा ने यात्रा में 50 हजार से ज्यादा लोगों के शामिल होने का दावा किया है। लोक जागरण यात्रा के बैनर तले निकाली यात्रा में भाजपा, संघ, विहिप, बजरंग दल समेत विभिन्न अनुषांगिक संगठन के कार्यकर्ता शामिल रहे।

वंदेमातरम् और भारत माता की जय के गगनभेदी नारे लगे

पूर्व घोषित कार्यक्रम के मुताबिक केपी इंटर कॉलेज से तिरंगा यात्रा का शुभारंभ हुआ। भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष व एमएलसी लक्ष्मण आचार्य के नेतृत्व में यात्रा मेडिकल चौराहा होते हुए, हनुमान मंदिर चौराहा, बस स्टैैंड, सुभाष चौराहा, स्वामी विवेकानंद चौराहे से होते हुए केपी कॉलेज में समाप्त हुई। लगभग की छह किमी की यात्रा  डेढ़ घंटे में समाप्त हुई। इस दौरान वंदेमातरम् और भारत माता की जय के गगनभेदी नारे लगाए गए। यात्रा में शहर के सभी मंडलों के साथ ही गंगापार और यमुनापार के मंडलों से भी पदाधिकारी और कार्यकर्ता पहुंचे।

खास बातें

1.5 घंटे में शहर के विभिन्न क्षेत्रों में लगभग छह किमी निकली यात्रा

08 संगठनों, भाजपा, संघ, विहिप, बजरंग दल आदि थे यात्रा में शामिल

50 हजार से ज्यादा लोगों के शामिल होने का भाजपा ने किया दावा

60 मंडलों के पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं ने की शिरकत

तिरंगा यात्रा में पूर्व राज्‍यपाल समेत अन्‍य विशिष्‍टजन शामिल हुए

तिरंगा यात्रा में पूर्व राज्यपाल केशरीनाथ त्रिपाठी, पूर्व मंत्री नरेंद्र सिंह गौर, एमएलसी यज्ञदत्त शर्मा, सांसद केसरी देवी पटेल, महापौर अभिलाषा गुप्ता, शहर उत्तरी के विधायक हर्षवर्धन बाजपेई, महानगर अध्यक्ष गणेश प्रसाद केसरवानी, अवधेश चंद्र गुप्त, पूर्व विधायक दीपक पटेल, पवन श्रीवास्तव प्रमुख रूप से शामिल रहे।

सीएए के विरोधी राष्ट्रद्रोही : आचार्य

भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष व एमएलसी लक्ष्मण आचार्य ने कहा कि सीएए के विरोधी राष्ट्रद्रोही हैैं। इस कानून को लेकर भ्रम फैलाया जा रहा है, जिसे दूर करने के लिए भाजपा ने बड़ा अभियान शुरू किया है। तिरंगा यात्रा भी उसी का हिस्सा है। कानून का लोगों ने स्वागत किया, यात्रा में उमड़ा जनसमूह कानून के समर्थन की गवाही दे रहा है। देश हित में हर निर्णय का देश की राष्ट्रवादी जनता समर्थन करेगी। भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष लक्ष्मण आचार्य ने कहा कि तिरंगा यात्रा नागरिकता संशोधन कानून के समर्थन में जनभावनाओं की अभिव्यक्ति है। कहा कि नागरिकता संशोधन कानून के पारित होने के बाद से ही विपक्षी दलों ने हिंसक प्रदर्शन कर देश की जनता को गुमराह करने की कोशिश की। जिसे देश की जनता भली भांति समझ रही है।

बोले, प्रयागराज की जनता ने साबित कर दिया कि विपक्ष के बहकावे में नहीं है

भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष लक्ष्मण आचार्य ने कहा कि प्रयागराज की जनता ने यह साबित कर दिया है कि इस मुद्दे पर देश की सरकार के साथ है और विपक्षियों के बहकावे में नहीं आने वाली है। यह कानून पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश में उपासना पद्धति के के शिकार हुए लोगों को सम्मानजनक जीवन जीने में मददगार साबित होगा, जो शरणार्थी के तौर पर भारत में रह रहे हैं।

ट्रैफिक डायवर्जन से कई घंटे रेंगते रहे वाहन

कई हिस्सों से तिरंगा यात्रा में शामिल होने के लिए हजारों बाइक सवारों का पहुंचना शुरू होने से जाम लग गया। महात्मा गांधी मार्ग पर सीएमपी कॉलेज से सुभाष चौराहे के आगे पत्थर गिरजाघर चौराहे तक गाडिय़ां रेंगती रहीं। ट्रैफिक डायवर्जन भी लागू कर दिया। मेडिकल चौराहे से आ रहे चालकों को हनुमान मंदिर चौराहे से सुभाष चौराहे की तरफ जाने से रोककर बिजली घर चौराहे की तरफ भेजा गया। यात्रा संपन्न होने के बाद ही यातायात संचालन सही हो सका। एसपी सिटी बृजेश श्रीवास्तव ने बताया कि पैदल यात्रा होने के कारण ऐसी स्थिति रही।

अनुशासित रही यात्रा, बनी रही शांति व्यवस्था

तिरंगा यात्रा के दौरान समर्थक अनुशासित रहे जिससे शांति व्यवस्था बनी रही। यात्रा में शामिल लोगों ने जोश के बावजूद शांति बनाए रखी जिसके कारण अव्यवस्था नहीं हुई। वहीं रैपिड एक्शन फोर्स, आरआरएफ, पीएसपी, पुलिस एसपी सिटी समेत कई अधिकारी भी सक्रिय रहे। शहर और ग्रामीण इलाके के अलग-अलग हिस्सों से हजारों लोग केपी कॉलेज में जुटे। यात्रा के आगे और पीछे आरआरएफ, आरएएफ, पीएसी और पुलिस फोर्स चलती रही। सिविल लाइंस चौराहा और केपी कॉलेज मैदान पर दमकल दस्ता भी मोर्चा संभाले था।

चौराहों पर ट्रैफिक पुलिसकर्मियों की तैनाती रही

तिरंगा यात्रा के रूट पर के चौराहों पर ट्रैफिक पुलिसकर्मियों की तैनाती रही। सीओ ट्रैफिक रत्नेश सिंह यातायात संचालन पर नजर बनाए रहे। खुद एसपी सिटी बृजेश श्रीवास्तव सीओ कर्नलगंज सत्येंद्र तिवारी और सीओ सिविल लाइंस बृज नारायण सिंह के साथ सुरक्षा व्यवस्था की बागडोर संभाल रहे थे। यह सारी कवायद इसलिए की गई थी कि कहींं भीड़ अनियंत्रित न हो जाए लेकिन उसकी नौबत ही नहीं आई।

 

Posted By: Brijesh Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस