प्रयागराज, जेएनएन। संघर्ष समिति के बैनर तले पार्षद और पूर्व पार्षदों का प्रतिनिधि मंडल सर्किट हाउस में नगर विकास मंत्री आशुतोष टंडन से मिला। इस दौरान प्रतिनिधिमंडल ने मंत्री को गृहकर कम करने समेत पांच सूत्रीय मांगों का ज्ञापन सौंपा।

कहा, बी श्रेणी का शहर होने पर भी प्रयागराज का गृहकर लखनऊ से अधिक है

प्रतिनिधि मंडल ने नगर विकास मंत्री को अवगत कराया कि प्रयागराज बी श्रेणी का शहर है। लखनऊ ए श्रेणी का शहर है।  इसके बावजूद प्रयागराज का गृहकर लखनऊ से अधिक है। पार्षद और पूर्व पार्षदों ने सभी नगर निगमों के गृहकर, जलकर, सीवर कर में व्याप्त असमानता को दूर करने के लिए एक स्पष्ट नीति बनाने, प्रयागराज से हरी-भरी को पूर्ण रूप से हटाने, मेला क्षेत्र में भूले-भटके लोगों के लिए शीघ्र शिविर लगाने और माल मेले में गरीबों को हनुमान मंदिर के पास दुकान लगाने की अनुमति देने की मांग की। ज्ञापन सौंपते समय समिति के संयोजक-पूर्व पार्षद शिव सेवक सिंह, पार्षद अशोक सिंह, आनंद घिल्डियाल, रंजन कुमार, अजय यादव, चंद्र प्रकाश, चंद्रशेखर बच्चा, सुशील कुमार आदि मौजूद रहे।

अपनी समस्याओं को लेकर स्ट्रीट वेंडर नगर विकास मंत्री से शिकायत की

इसी क्रम में मेला क्षेत्र से स्ट्रीट वेंडरों को हटाए जाने के विरोध में आजाद स्ट्रीट वेंडर यूनियन और नेशनल हॉकर फेडरेशन का प्रतिनिधि मंडल नगर विकास मंत्री से मिला। उन्होंने शिकायत की कि स्ट्रीट वेंडरों को मेले में परेशान किया जा रहा है। इस दौरान आजाद स्ट्रीट वेंडर यूनियन के प्रदेश महामंत्री रवि शंकर द्विवेदी, डॉ. प्रमोद शुक्ला, डॉ ममता द्विवेदी, राजू कनौजिया, गणेश गुप्ता, मो. अनस मोनू सोनकर, मुकेश सोनकर समेत अन्य पदाधिकारी मौजूद रहे।

 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप