प्रयागराज, जेएनएन। स्वरूप रानी नेहरू चिकित्सालय के कोविड सुपर स्पेशियलिटी ब्लॉक में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या अब औसत आठ ही बनी हुई है, जबकि यहां इलाज के प्रोटोकॉल के अनुसार चिकित्सा स्टाफ पूरे लगाए जा रहे हैं। तीन शिफ्टों में लग रही ड्यूटी में डॉक्टर समेत आठ-आठ मरीजों की निगरानी व उनका इलाज कर रहे हैं।

प्रयागराज में चूंकि कोरोना के मरीज अभी मिल रहे हैं। विभिन्न प्राइवेट अस्पतालों में हो रही जांच में भी लक्षण वाले संक्रमित मरीज मिल रहे हैं तो उन्हें कोविड अस्पताल में भर्ती किया जा रहा है। 200 बेड की क्षमता वाले कोविड ब्लॉक में सात मरीजों का इलाज हो रहा है। इनके लिए 24 स्टाफ की ड्यूटी लगी है।

एक भी मरीज रहने तक रहेगा कोविड अस्पताल

कोविड के नोडल अधिकारी डॉक्टर ऋषि सहाय का कहना है कि इलाज में लगे लोगों की ड्यूटी शिफ्टों में लगाई जा रही है। जब तक एक भी मरीज रहेगा तब तक अस्पताल भी कोविड श्रेणी का रहेगा और स्टाफ का प्रोटोकॉल भी रहेगा।

युनाइटेड मेडिसिटी में अब दो मरीज

एसआरएन जैसा ही हाल यूनाइटेड मेडिसिटी एंड मेडिकल कालेज का है। वहां भी 100 बेड के अस्पताल में महज दो संक्रमित भर्ती हैं लेकिन चिकित्सा का प्रोटोकाल पूरा करना मजबूरी है।

प्रयागराज में जांच और बढ़ाई गई

जिले में कोरोना जांच और बढ़ा दी गई है। अब प्रत्येक दिन 8000 से अधिक जांच हो रही है। वजह यह है कि अस्पतालों में आने वाले किसी भी मरीज को भर्ती करने से पहले एंटीजेन किट से उसकी जांच हो रही है। ऐसे में रोज 8500 के आसपास जांच हो रही है जबकि कोरोना 15 से लेकर 18 लोगों में ही मिल रहा है।

 

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021