प्रयागराज, जेएनएन। कोरोना संक्रमण का फैलाव लगातार थम रहा है लेकिन गंभीर मरीजों की जान बचाने में कामयाबी डाक्टरों को नहीं मिल पा रही है। मंगलवार को भी छह संक्रमितों की मौत हो गई। जबकि 202 संक्रमित नए मिले हैं। संक्रमण की गति शहर में धीमी हुई है, गांव पर असमंजस है। कोरोना का संक्रमण स्वास्थ्य कर्मियों, पुलिस कर्मियों और बैंक कर्मियों का पीछा नहीं छोड़ रहा है।

कोविड-19 के नोडल अफसर की ओर से जारी रिपोर्ट के अनुसार बीते 24 घंटे में 11104 लोगों के सैंपल जांच के लिए भेजे गए। 718 को पूरी तरह स्वस्थ होने पर डिस्चार्ज कर दिया गया। इसमें 55 को कोविड अस्पतालों और 663 को होम आइसोलेशन से छुट्टी दी गई। कोविड की शुरुआत से अब तक 62519 लोगों को होम आइसोलेशन में रहते स्वस्थ किया गया। नए संक्रमितों में पुलिस कर्मी भी हैं, स्वास्थ्य कर्मी, इंजीनियर, बैंक कर्मी शामिल हैं। कोविड-19 के नोडल अफसर डा. ऋषि सहाय का कहना है कि संक्रमित अब शहर में भी कम मिल रहे हैं और गांव में भी। कांटेक्ट टेस्टिंग बढ़ाए जाने का असर है। बाजार बंदी से भी काफी हद तक राहत हुई है। 

ट्रिपलआइटी के कार्यालय अधीक्षक बृजेश कुमार पांडेय का कोरोना संक्रमण से निधन हो गया। वह हफ्ते पहले संक्रमित हुए थे। 18 अप्रैल को उनकी पत्नी की भी मौत हो चुकी है। इलेक्ट्रॉनिक्स विभाग के असिस्टेंट प्रोफेसर डा. आशुतोष कुमार सिंह व अन्य स्टाफ ने शोक संवेदना जताई है। डा. आशुतोष ने बताया कि बृजेश कुमार सुल्तानपुर जनपद के कूरेभार ब्लॉक के निवासी थे।