प्रयागराज, जेएनएन। कोविड काल में पहले चरण का टीकाकरण स्वास्थ्य कर्मियों के फ्रेंडली मैच की तरह होगा।पहली बार ऐसा हो रहा है कि किसी बीमारी की दवा आने पर स्वास्थ्य कर्मी ही स्वास्थ्य कर्मियों पर उसे उपयोग करेंगे। शासन का उद्देश्य यह है कि कोरोना वैक्सीन को लेकर आम जनता में कोई भय उत्पन्न न हो।

जिले में कोरोना वैक्सीन की सभी तैयारियों कर साथ स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी इसे आपस का फ्रेंडली मैच भी मानकर चल रहे हैं।

यह किसी महामारी के दिनों में आम जनता के बीच विश्वास जगाने का अच्छा माध्यम भी है। इसके लिये अपने ही बीच कर्मचारी ट्रेंड किये गए हैं। सभी मानसिक रूप से भी तैयार हो रहे हैं कि कोरोना का टीका पहले चरण में लगवाना है। कोविड वैक्सीन के टीकाकरण के नोडल डॉक्टर राहुल सिंह का कहना है कि आम जनता में भय दूर करने के इरादे से ही पहले स्वास्थ्य कर्मियों को वैक्सीन दी जाएगी। इसके बाद फ्रंट लाइन वाले दूसरे कोरोना वारियर्स इसमें शामिल किए जाएंगे। कहा कि पहला चरण स्वास्थ्य कर्मियों में फ्रेंडली मैच की तरह हंसी खुशी होगा।

नर्स और एएनएम होंगी पहली वैक्सीनेटर

कोरोना के वैक्सीन आने पर अस्पतालों में स्टाफ नर्स और ब्लॉक लेवल पर एएनएम को यह सौभाग्य मिलेगा की वही पहली बार इसे किसी यानी स्वास्थ्य कर्मियों को लगाएंगी। इसके लिये स्टाफ नर्स और एएनएम को वैक्सीनेटर के रूप में तैयार किया गया है।

बार बार दिया जाएगा प्रशिक्षण

एएनएम और स्टाफ नर्स को टीकाकरण का प्रशिक्षण बार बार दिया जाएगा ताकि उनसे किसी प्रकार की चूक न हो, जिलाधिकारी की भी यही मंशा है।

समाज के सभी हेड को लिया जाएगा विश्वास में

कोरोना के टीकाकरण के लिये समाज के सभी वर्ग के मुखिया को विश्वास में लिया जाएगा। टीकाकरण प्रक्रिया के प्रस्तुतिकरण के समय प्रशासन, पुलिस, साधु संत, समाजसेवी संगठन,  आदि क्षेत्रों से लोगों को आमंत्रित किया जाएगा।

 

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021