प्रयागराज, जागरण संवाददाता। कोरोना संक्रमण की जटिलता से हेल्थ केयर वर्कर और फ्रंट लाइन वर्कर को सुरक्षित रखने के लिए टीके की बूस्टर डोज 10 जनवरी से लगाई जाएगी। प्रयागराज में बूस्‍टर डोज लगाने की कार्ययोजना बन गई है। इसके तहत कहा गया है कि जिन्हें कोरोनारोधी टीके की दूसरी डोज लगे हुए नौ महीने या 39 सप्ताह पूरे हो गए हैं, उन्हें ही बूस्टर डोज लगेगी।

60 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को भी बूस्‍टर डोज

60 वर्ष से अधिक उम्र के उन लोगों को भी बूस्टर डोज दी जाएगी, जिन्हें पहले से कोई न कोई गंभीर बीमारी है। फ्रंटलाइन वर्कर और हेल्थ केयर वर्कर को बूस्टर डोज के लिए अपने विभाग से प्रमाण पत्र भी जारी करवाकर टीकाकरण केंद्र में प्रस्तुत करना होगा।

कोरोनारोधी टीके की दूसरी डोज के नौ माह बाद ही लगेगा बूस्‍टर डोज

कोरोना वायरस के एक बार फिर तेजी से फैलने से चिंतित आइसीएमआर ने बूस्टर डोज की सह‍मति दी थी। कुछ दिनों पहले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश के करोड़ों लोगों को यह बताया था कि बूस्टर डोज 10 जनवरी से लगेगी। इसी का अनुपालन होना है। सरकार से आई गाइडलाइन के अनुसार फ्रंटलाइन वर्कर, हेल्थ केयर वर्कर और गंभीर बीमारियों वाले 60 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को टीके की दूसरी डोज की अवधि 39 सप्ताह पूरी होने की दशा में टीके लगाए जाएंगे। अधिकांश लोगों ने आनलाइन रजिस्ट्रेशन करा लिया है और अपने विभागों से यह प्रमाण पत्र भी लेने लगे हैं कि उन्हें टीके की दूसरी डोज लगे नौ माह हो गए हैं।

शासन की गाइडलाइन का पालन होगा : सीएमओ

प्रयागराज के मुख्य चिकित्साधिकारी (सीएमओ) डा. नानक सरन ने बताया कि शासन की गाइडलाइन का पालन किया जाएगा। सभी केंद्रों में फ्रंटलाइन वर्कर, हेल्थ केयर वर्कर और 60 वर्ष से अधिक उम्र के बीमार लोगों को बूस्टर डोज लगाई जाएगी। यह भी कहा कि जिन्हें कोई न कोई बीमारी है वह अपने डाक्टर से बूस्टर डोज की जरूरत का प्रमाण पत्र लाएं।

Edited By: Brijesh Srivastava