प्रयागराज, जेएनएन। प्रतापगढ़ में नवनिर्मित मेडिकल कालेज के नामकरण का विवाद कम नहीं हो रहा है। इस मेडिकल कालेज का नाम अपना दल संस्थापक डा. सोनेलाल पटेल पर करने से उपजा विवाद गहराता जा रहा है। अब भाजपा नेता व पूर्व विधायक बृजेश मिश्र सौरभ के नाम से मंगलवार को लगाई गई होर्डिंग्स ने विवाद को हवा देने का काम कर रहा है। इस होर्डिंग में सरदार वल्लभ भाई पटेल के नाम मेडिकल कालेज लिखते हुए स्वागत की अपील की गई है।

पूर्व विधायक ने प्रदेश सरकार के निर्णय पर जताया था विरोध

नव निर्मित मेडिकल कालेज के आसपास और शहर में कई स्थानों पर इस तरह की होर्डिंग्स लगाई गई है। इससे पहले पूर्व विधायक ने प्रेस कांफ्रेंस में मेडिकल कालेज का नाम सोनेलाल पटेल मेडिकल कालेज किए जाने संबंधी प्रदेश सरकार के निर्णय की आलोचना की थी। अपना दल (एस) अध्यक्ष आशीष पटेल ने इस विरोध को पिछड़ों के प्रति ओछी मानसिकता बताते हुए पूर्व विधायक के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग भाजपा नेतृत्व से की थी।

मेडिकल कालेज के नामकरण का ये भी कर रहे विरोध

मंगलवार को शहर में इस होर्डिंग्स को देख कर लोग इसे पूर्व विधायक की तरफ से अपना दल को उनका जवाब मान रहे हैं। बेल्हा स्वाभिमान मंच की तरफ से भी नामकरण का विरोध किया जा रहा है। सोमवार को पैदल मार्च निकाला गया था। वहीं आज यानी मंगलवार को हस्ताक्षर अभियान चलाया जा रहा है। कतिपय अधिवक्ता और व्यवसायी भी इस नाम के विरोध में हैं।

इंटरनेट मीडिया पर भी छाया यह मामला

उल्‍लेखनीय है कि प्रतापगढ़ जिले में बने राजकीय मेडिकल कालेज के नामकरण को लेकर बयानबाजी की होड़ लगी है। समर्थन और विरोध के दावे के बीच बेल्‍हा स्‍वाभिमान संघर्ष मोर्चा का गठन भी कर दिया गया। साथ ही इसके माध्‍यम से डाक्‍टर सेनेलाल पटेल के नाम से मेडिकल कालेज का नामकरण करने का विरोध स्‍वरूप जन आंदोलन छेड़ दिया गया। यह मेडिकल कालेज जनपद के सदर इलाके के पूरे केशवराय गांव में बनाया गया है। 213 करोड़ रुपये की लागत से स्‍वशासी राज्‍य चिकित्‍या महाविद्यालय की स्‍थापना की गई है। पिछले दिनों राज्‍य सरकार ने इस मेडिकल कालेज का नामकरण डाक्‍टर सोनेलाल पटेल के नाम पर रख दिया था। इसी के बाद से इसे लेकर राजनीति गरम हो गई है। इंटरनेट मीडिया पर भी यह मामला छा गया है।

Edited By: Brijesh Srivastava