प्रयागराज, जेएनएन। इलाहाबाद केंद्रीय विश्वविद्यालय (इविवि) के महिला छात्रावास परिसर में निर्माण अब कमेटी की निगरानी में किया जाएगा। इविवि के कार्यवाहक कुलपति प्रोफेसर आरआर तिवारी ने इसके लिए कमेटी का गठन भी कर दिया है। अब यह कमेटी सुरक्षा व्यवस्था के साथ ही अन्य खामियों पर भी अपनी पैनी नजर रखेगी।

इविवि छात्रसंघ की पूर्व अध्यक्ष ने की थी शिकायत

दरअसल इलाहाबाद विश्वविद्यालय छात्रसंघ की पूर्व अध्यक्ष ऋचा सिंह ने तीन सितंबर को पहली बार इविवि के तत्कालीन चीफ प्रॉक्टर प्रोफेसर राम सेवक दुबे को पत्र लिखकर इस संबंध में शिकायत की थी। इसके बाद दिसंबर में विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी), केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय (एचआरडी) और राष्ट्रीय महिला आयोग से शिकायत की गई।

सुरक्षा समेत अश्‍लील हरकत का लगाया था आरोप

इलाहाबाद विश्वविद्यालय छात्रसंघ की पूर्व अध्यक्ष ऋचा सिंह ने आरोप लगाया था कि हॉस्टल परिसर में कई वर्षों से निर्माण चल रहा है। निर्माण में लगे ठेकेदार के लोग शाम छह बजे के बाद भी हॉस्टल में आते-जाते हैं और अश्लील हरकत करते हैं। ऋचा ने हॉस्टल में छात्राओं की सुरक्षा का मुद्दा भी उठाया था। यह मामला सदन में भी गूंजा था।

राष्ट्रीय महिला आयोग की टीम दो बार जांच को पहुंची

शिकायत राष्ट्रीय महिला आयोग से भी की गई थी। महिला आयोग की टीम दो बार मामले की जांच करने यहां पहुंची थी।

गठित कमेटी निर्माण को लेकर नियम तय करेगी

अब इलाहाबाद विश्वविद्यालय के कार्यवाहक कुलपति प्रो. आरआर तिवारी ने निर्माण के दौरान निगरानी के लिए डीएसडब्ल्यू प्रोफेसर केपी सिंह की अध्यक्षता में कमेटी का गठन किया। कमेटी में चीफ प्रॉक्टर प्रो. आरके उपाध्याय, महिला छात्रावास की इंचार्ज डॉ. सरोज यादव और सुरक्षा अधिकारी अजय सिंह शामिल हैं। अब यह कमेटी निर्माण को लेकर सारे नियम तय करेगी। उन्हीं नियमों के अनुरूप परिसर में निर्माण होगा।

 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस