प्रयागराज, जेएनएन : सरकारी क्षेत्र की संचार कंपनी बीएसएनएल आर्थिक तंगी से जूझ रही है। हालात यह कि कंपनी बिजली का बिल तक नहीं भर पा रही तो टॉवर का कनेक्शन कट जा रहा है। ऐसे ही 17 दिन बंद रहने के बाद बहादुरगंज का टॉवर गुरुवार को चालू हुआ। टॉवर बंद होने से उपभोक्ता कम होते जा रहे हैं।

प्रयागराज और कौशांबी में बीएसएनएल के 636 मोबाइल टॉवर है। निजी संचार कंपनियों की तुलना में बीएसएनएल के टॉवर कहीं ज्यादा है, फिर भी उपभोक्ता अक्सर मोबाइल नेटवर्क न होने की शिकायत करते हैं। दरअसल पिछले कुछ सालों से बीएसएनएल घाटे में चल रह है। इनकी जितनी कमाई है, उसका दोगुना खर्च हो रहा है। ऐसे में केंद्र सरकार से बजट मिलने के बाद ही काम चलता है। वर्तमान में बीएसएनएल पर बिजली का एक करोड़ रुपये बिल बकाया है।

इसके कारण पिछले दिनों कई टॉवर की बिजली काट दी गई। इसमें बहादुरगंज, बैरहना, तिल्हापुर, अकोढ़ा सहित दर्जनभर से अधिक टॉवर हैं। बिजली कटने से इन क्षेत्रों की संचार सेवा ठप हो गई। बीएसएनएल के पास अब डीजल का भी बजट नहीं है इसलिए वहां पर जनरेटर नहीं चलता है। कई दिन तक यह टॉवर बंद रहे। बिल जमा करने पर बहादुरगंज का टॉवर 17 दिन बाद और बैरहना का टॉवर 13 दिन बाद चालू हुआ।  बीएसएनएल के जीएम आनंद मिश्रा ने बताया कि बिल बकाया होने पर टॉवर के कनेक्शन काटे गए थे, अब चालू करा दिया है। बजट न होने के कारण अभी भी एक करोड़ का बिल बकाया है।

 

Posted By: Brijesh Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस