प्रयागराज, जेएनएन। कोरोना वायरस के कहर के बीच सूरज भी तमतमा उठा था। पिछले कुछ दिनों से बैरोमीटर में पारा चढ़ता ही जा रहा था। आलम यह हो गया कि मंगलवार को अधिकतम तापमान 43 डिग्री सेल्सियस से ऊपर जा पहुंचा था। हालांकि बुधवार की सुबह से आसमान पर छाए बादलों ने सूर्य की गर्मी कम कर दी है। दोपहर में धूप तो खिली है लेकिन कल वाली तेजी नहीं है।

दिन भर बादलों और सूर्य के बीच लुकाछिपी का खेल भी चलता रहा

कोरोना वायरस के कारण लॉकडाउन है। लॉकडाउन के चलते सुनसान सड़कें भी सूरज की तपिश से इन दिनों तप उठी थीं। वैसे तो लोग घर में ही रह रहे हैं लेकिन जो आवश्यक कार्य से निकलता भी है, वह पूरी तैयारी के साथ। जी हां, कल यानी मंगलवार तक यही हाल वातावरण में था। वहीं बुधवार की सुबह से ही आसमान पर बादलों का डेरा है। सुबह तो ऐसा लग रहा था कि संभवत: बारिश होगी। हालांकि दोपहर में सूर्य की तल्खी शुरू हुई लेकिन मंगलवार जैसी गर्मी नहीं थी। दिन भर बादलों और सूर्य के बीच लुकाछिपी का खेल भी चलता रहा। इससे गर्मी में तेजी नहीं आने पाई।

पछुआ हवा के तेज होने पर लू चलने लगेगी

मंगलवार तक न्यूनतम पारा भी बढ़कर 23.3 डिग्री सेल्सियस हो गया था। सोमवार की तुलना में मंगलवार को अधिकतम और न्यूनतम पारा में 2.1 डिग्री सेल्सियस की वृद्धि दर्ज हुई। मौसम विज्ञानी प्रोफेसर सविंद्र सिंह का कहना है कि अफगानिस्तान और पाकिस्तान से चली पछुआ हवा धीमी पडऩे से अब पारा और चढ़ेगा। पछुआ हवा के तेज होने पर लू चलने लगेगी। हालांकि बादलों की संभावना भी जताई गई थी। 

छह दिनों का तापमान अधि  न्यून

गुरुवार   - 38   -  20

शुक्रवार  - 39   -  23

शनिवार  - 38   - 20

रविवार   - 40   - 21

सोमवार  - 41    - 21

मंगलवार - 43.1  - 23.2

 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस