प्रयागराज,जेएनएन । भाजपा के नवनियुक्त महानगर अध्यक्ष गणेश केसरवानी ने कहा कि नागरिक संशोधन कानून राष्ट्रहित में है। लोगों को इसका बेवजह विरोध नहीं करना चाहिए। शुक्रवार को महानगर अध्यक्ष का शहर पश्चिमी के कार्यकर्ताओं ने प्रीतमनगर में स्वागत किया। इस मौके अनिल कुशवाहा, दीपक कुशवाहा, अमरजीत, राकेश जैन, शिव भारतीय, पवन गुप्ता, पवन श्रीवास्तव, अजीत श्रीवास्तव आदि थे।

इस कानून को लेकर परेशान होने की जरूरत नहीं

दूसरी ओर केपी कम्यूनिटी हाल में लोकमंच के बैनर तले प्रबुद्ध समाज की बैठक हुई। बैठक में सर्वोच्च न्यायालय की अधिवक्ता मोनिका अरोड़ा ने कहा कि नागरिक संशोधन कानून की चर्चा पूर्व की सरकारों में भी होती रही है। उन्होंने बताया कि पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश से आए शरणार्थियों को नागरिकता देने के लिए यह कानून है। इसको लेकर लोग परेशान न हो। बैठक में राकेश पांडेय, ज्ञान नारायण कनौजिया, शिव कुमार पाल, विकास त्रिपाठी, सौरभ श्रीवास्तव, कृष्ण चंद्र, जेबी सिंह आदि थे।

कहीं विरोध तो कहीं समर्थन

नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में चल रहे आंदोलन का कहीं समर्थन तो कहीं विरोध हो रहा है। ऑल इंडिया लायर्स यूनियन की ओर से गृहमंत्री को पत्र भेजकर मांग की गई है कि इस कानून को तत्काल वापस लिया जाए और सर्वदलीय बैठक बुलाकर उसमें इस मुद्दे को लेकर विचार-विमर्श किया जाए। यह एक सार्थक कदम होगा। राष्ट्रीय सर्वोदय दल प्रयाग के राष्ट्रीय अध्यक्ष पवन कुमार पांडेय ने प्रधानमंत्री कार्यालय को पत्र भेजकर इस कानून को लागू करने के लिए बधाई और धन्यवाद दिया है। कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया के प्रदेश सचिव डॉ. आशीष मित्तल ने कहा कि यह सरकार का यह फैसला गलत है। इंटरनेट सेवा बंद करना यह पूरी तरह से गलत है।

Posted By: Brijesh Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस