जासं, इलाहाबाद : काउंसिल फॉर द इंडियन स्कूल सर्टिफिकेट एग्जामिनेशन (सीआइएससीई) ने यूपी बोर्ड, सीबीएसई बोर्ड में एकरूपता लाने के लिए आइसीएसई व आइएससी में पास प्रतिशत घटा दिया है। यही पास प्रतिशत कक्षा नौ व 11 के लिए भी होगा। यह व्यवस्था 2018-2019 अब आइसीएसई में पास होने के लिए 35 फीसद की बजाय 33 फीसद अंक ही हासिल करने होंगे। आइएससी में पास प्रतिशत 40 फीसद की बजाय 35 फीसद कर दिया गया है। सीआइएससीई ने मानव संसाधन विकास मंत्रालय व देश के अन्य शिक्षा बोर्डो के साथ कई बार की मीटिंग के बाद इस निर्णय को अमलीजामा पहनाया है। इस मसले पर निर्णय के लिए इंटर बोर्ड वर्किंग ग्रुप (आइबीडब्ल्यूजी) का गठन किया गया था। आइबीडब्ल्यूजी ने यह सलाह दी थी कि देश के सभी बोर्डो में पास प्रतिशत एक समान होना चाहिए। इसके बाद बोर्ड ने यह निर्णय लिया। सीआइएससीई बोर्ड के चीफ एक्जक्यूटिव सेक्रेटरी गैरी एराथन ने इस आशय का आदेश जारी कर दिया है। यह व्यवस्था 2019 से लागू होगी। देश के सभी प्रिंसिपल्स को दिए गए आदेश में कहा गया है कि 2018-2019 सत्र के आंतरिक मूल्यांकन व्यवस्था में भी इसी पास प्रतिशत क्राइटेरिया से अंक दिए जाएं। कक्षा नौ व कक्षा दस (आइसीएसई) के लिए 33 फीसद पास प्रतिशत व कक्षा 11 व 12 (आइएससी) के लिए 35 फीसद पास प्रतिशत होगा। यूपी बोर्ड में हाईस्कूल व इंटर दोनों के लिए पास प्रतिशन 33 फीसद है। ब्वायज हाईस्कूल एंड कॉलेज की वाइस प्रिंसिपल सीबी ल्यूक ने बताया कि इस आशय का फैसला हुआ है पर अभी सर्कुलर कॉलेज को नहीं मिला है।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस