प्रयागराज, जेएनएन। मानस मर्मज्ञ मोरारी बापू के श्रीमुख से अक्षयवट के महात्म्य की कथा शुरू होने में अब एक सप्ताह ही शेष रह गए हैं। गंगा नदी के किनारे अरैल तट के निकट होने जा रहे इस भव्य आयोजन की तैयारियां लगभग 70 फीसद पूरी हो चुकी हैं। अब व्यास पीठ के लिए मंच भी आकार लेने लगा है। इस आयोजन में एक मार्च को सुविख्यात कवि डॉ. कुमार विश्वास तो आएंगे ही, उप्र के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के भी आने के आसार बन रहे हैं, तारीख अभी तय नहीं है। संत कृपा सनातन संस्थान राजस्थान की ओर से देश-विदेश से आने वाले करीब सात हजार श्रद्धालुओं के रुकने की निश्शुल्क व्यवस्था की गई है।

देश भर के कुशल कारीगरों की टीम आयोजन स्थल को दे रही भव्य रूप

आयोजन स्थल को भव्य स्वरूप देने तथा व्यास पीठ को अक्षयवट थीम के आधार पर बनाने के लिए इंदौर, मध्य प्रदेश, राजस्थान, मुंबई और दिल्ली से कुशल कारीगरों की टीम दिन रात जुटी है। स्टेज का निर्माण सबसे खास रहेगा। कुछ ऐसा दिखेगा जैसे मोरारी बापू अक्षयवट के नीचे ही बैठकर कथा सुना रहे हैं। आयोजन स्थल का मुख्य गेट काफी हद तक बनकर तैयार है। लकड़ी, कपड़े, कैनवास सहित अन्य सामग्री से बाउंड्री बनाई जा रही है। कुछ अन्य गेट भी बन रहे हैं।

मेहमानों की सुविधा के लिए हाईटेक व्‍यवस्‍था

मेहमानों के रहने के लिए आलीशान कॉटेज बनाए गए हैं। आयोजन कराने वाली संस्था के मीडिया प्रभारी नितिन ने बताया कि बाहर से आने वाले करीब सात हजार लोगों को प्रयागराज में रुकने और भोजन आदि की निशुल्क व्यवस्था की गई है। इनमें करीब दो हजार लोगों को आयोजन स्थल पर बने कॉटेज में ठहराया जाएगा। शेष के लिए जिले के बड़े होटल बुक कराए गए हैं। सभी श्रोताओं के आवागमन, भोजन की व्यवस्था भी निश्शुल्क रहेगी। बताया कि किसी चीज के लिए किसी से कोई शुल्क नहीं लिया जाएगा।

Posted By: Brijesh Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस