प्रयागराज, जेएनएन। रेलवे के केंद्रीय अस्पताल को यूपी राज्य सरकार ने 25 ऑक्सीजन कनसंट्रेटर दिए हैं। आधारभूत संरचना को और मजबूत करने के प्रयास में सोमवार को केंद्रीय अस्पताल प्रयागराज में आरटीपीसीआर मशीन स्थापित की गई है। यह जानकारी उत्तर मध्य रेलवे (एनसीआर) के महाप्रबंधक विनय कुमार त्रिपाठी ने दी। उन्‍होंने कहा कि जल्द ही आरटी-पीसीआर परीक्षण हो सकेगा। उन्‍होंने इसे जल्द प्रारंभ करने के निर्देश दिए।

एनसीआर जीएम ने अधिकारियों संग की वर्चुअल बैठक

एनसीआर के महाप्रबंधक ने वर्चुअल बैठक की। इसमें अस्पतालों में टीकाकरण की प्रगति और आधारभूत संरचना के उन्नयन के बारे में जानकारी ली। रेलवे के प्रधान मुख्य चिकित्सा निदेशक डॉ. आनंद टंडन ने बताया कि उत्तर मध्य रेलवे द्वारा कोविड के खिलाफ लड़ाई को ऑक्सीजन कनसंट्रेटर की उपलब्धता से अतिरिक्त मजबूती मिली है। इसमें एनसीआर के तीनों मंडल रेल प्रबंधकों, शीर्ष स्वास्थ्य अधिकारियों समेत अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से जुड़े। जीएम ने एनसीआर से गुजरने वाली ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेनों की कड़ी निगरानी पर भी बल दिया।

स्वास्थ्य अधिकारियों को आश्वासन दिया

आधारभूत संरचना के सुदृढ़ीकरण के अलावा, उत्तर मध्य रेलवे द्वारा प्रयागराज के लिए अनुबंध के आधार पर 15 और झांसी के लिए तीन डॉक्टरों की भर्ती की गई है। इनमें से प्रयागराज में आठ ने कार्य प्रारंभ कर दिया हैं। इस से रेलवे अस्पताल में डॉक्टरों की कमी की समस्या का समाधान हो सकेगा। एनसीआर के जीएम ने स्वास्थ्य अधिकारियों को आश्वासन दिया कि जब भी आवश्यकता होगी, रेलवे बोर्ड और राज्य सरकार से सभी आवश्यक सहायता प्राप्त की जाएगी।

रेलवे कर्मियों के टीकाकरण पर भी दिया जोर

उन्होंने कर्मचारियों के 100 फीसद टीकाकरण पर बल दिया और इस दौरान पर्याप्त सामाजिक दूरी का पालन करने और टीकाकरण स्थलों पर भीड़ को रोकने के लिए सावधानी बरतने की बात कही। चिकित्सा निदेशक डॉ. एसके हांडू ने बताया कि सभी सावधानी बरती जा रही हैं और केंद्रीय अस्पताल प्रयागराज में टीकाकरण स्थल की तस्वीरें साझा कीं।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप