प्रयागराज, जागरण संवाददाता। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि के मृत्यु प्रकरण की जांच अब केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआइ) करेगी। गुरुवार देर रात सीबीआइ की दिल्ली टीम ने मुकदमा दर्ज किया और शुक्रवार शाम छह सदस्यीय टीम के कुछ सदस्य प्रयागराज पहुंच गए। हलांकि सीबीआइ के कई अधिकारी आज आएंगे, इसके बाद जांच शुरू होने की बात कही जा रही है। वहीं, टीम के आने से पहले मामले की जांच कर रही पुलिस की विशेष जांच दल (एसआइटी) दिनभर अपनी रिपोर्ट तैयार करने में जुटी रही। यही रिपोर्ट सीबीआइ को सौंपी जाएगी।

कई रहस्य हैं जो सुलझा सकती है सीबीआइ

सोमवार शाम श्री मठ बाघम्बरी गद्दी के एक कमरे में महंत की संदिग्ध दशा में मृत्यु हो गई थी। उनके कमरे में एक सुसाइड नोट भी बरामद किया गया था। पुलिस ने दावा कि महंत ने फंदे पर लटककर जान दी है। मगर घटना को लेकर कुछ संतों व अन्य लोगों ने हत्या का आरोप लगाते हुए कई सवाल उठाए थे। सोमवार की रात ही जार्जटाउन थाने में अमर गिरि की तहरीर पर महंत के शिष्य आनंद गिरि के खिलाफ आत्महत्या के लिए उकसाने के आरोप में मुकदमा दर्ज किया गया था। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में महंत की मौत का कारण फांसी लगाना पाया गया।

आज रफ्तार पकड़ेगी सीबीआइ की जांच

मुख्यमंत्री के निर्देश पर एसएसपी ने सीओ की अध्यक्षता में 18 सदस्यीय एसआइटी गठित की थी। एसआइटी ने आरोपित आनंद गिरि, पुजारी आद्या प्रसाद तिवारी, उसके बेटे संदीप काे गिरफ्तार कर जेल भेज चुकी है। बुधवार रात प्रदेश सरकार ने इस केस की जांच सीबीआइ से कराने के संस्तुति की थी, जिसके बाद सीबीआइ दिल्ली की टीम ने मुकदमा कायम किया। उसने जार्जटाउन थाने में दर्ज मुकदमे को ही आधार बनाया है। शुक्रवार शाम सीबीआइ टीम के कुछ सदस्य प्रयागराज पहुंचे। उन्होंने पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों से मुलाकात की। बताया गया है कि सीबीआइ के कुछ अधिकारी आज आएंगे। इसके बाद सीबीआइ की जांच तेजी पकड़ेगी।

Edited By: Ankur Tripathi