प्रयागराज, जेएनएन। सीबीआइ ने जेल में बंद पूर्व सांसद अतीक अहमद के भाई व पूर्व विधायक अशरफ की मुश्किलें अब और बढ़ गई है। अशरफ के खिलाफ पूर्व विधायक राजू पाल हत्याकांड में कुर्की की उद्घोषणा की नोटिस लेकर सीबीआइ टीम शहर में पहुंची। इसके बाद अशरफ के निवास सहित शहर में कई स्थानों पर यह नोटिस चस्पा की गई। सीबीआइ ने इस नोटिस के बारे में डुगडुगी पीटकर मुनादी भी कराई।

25 जनवरी 2005 को हुई थी विधायक राजूपाल की हत्‍या

25 जनवरी 2005 को सुलेमसराय में शहर पश्चिमी के बसपा विधायक राजू पाल की हत्या के मुकदमे में अतीक अहमद और अशरफ समेत नौ लोगों के खिलाफ पत्नी पूजा पाल ने केस दर्ज कराया था। वर्ष 2016 में सुप्रीम कोर्ट ने हत्याकांड की जांच सीबीआइ को सौंप दी थी। जांच के बाद पिछले साल अगस्त में सीबीआइ ने अतीक और अशरफ सहित 10 लोगों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की थी।

अशरफ न हाजिर हुआ और न ही सीबीआइ को मिला

इसके बाद अशरफ समेत सभी आरोपितों को सीबीआइ कोर्ट से सम्मन भेजा गया था। मगर वह न तो हाजिर हुआ और न सीबीआइ को मिला। अशरफ पर प्रयागराज पुलिस ने एक लाख रुपये का इनाम घोषित कर रखा है। इनाम ढाई लाख रुपये करने की संस्तुति शासन को भेजी गई है। अशरफ के हाजिर नहीं होने पर विशेष न्यायिक मजिस्ट्रेट सीबीआइ से जारी कुर्की की उदघोषणा की नोटिस लेकर सीबीआइ टीम शहर में पहुंची। खुल्दाबाद और करेली पुलिस के साथ सीबीआइ टीम ने चकिया में अतीक के घर जाकर उनके बेटे अली को यह नोटिस तामील कराया।

इसके बाद कुर्की का आदेश जारी हो सकता है

नोटिस में अशरफ को 26 मार्च को कोर्ट में पेश होने के लिए लिखा है। इसके बाद कुर्की का आदेश जारी हो सकता है। सीबीआइ और पुलिस टीम ने निवास के बाद करबला स्थित कार्यालय, करेली में मस्तान मार्केट, नुरुल्ला रोड बैरियर तिराहा, खुल्दाबाद थाना, अटाला चौराहा, मरकरी चौराहा, सिविल लाइंस सुभाष चौराहा, बस अड्डा और रेलवे स्टेशन, कचहरी समेत कई स्थानों पर नोटिस चस्पा करने के साथ ही डुगडुगी बजाकर कोर्ट की उदघोषणा की मुनादी भी कराई। उल्लेखनीय है कि देवरिया जेल कांड में गिरफ्तारी के बाद अहमदाबाद जेल में बंद अतीक के पुत्र उमर को भी इसी मुकदमे में सीबीआइ खोज रही है। उस पर दो लाख रुपये का इनाम घोषित है।

Posted By: Brijesh Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस