मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

प्रयागराज, जेएनएन। सिविल जजों की भर्ती तेजी से करने के लिए इलाहाबाद हाईकोर्ट और शीर्ष कोर्ट के भी निर्देश हैं। उप्र लोकसेवा आयोग यानी यूपीपीएससी ने इसके प्रति तेजी दिखाई भी लेकिन, साल 2019 की पहली छमाही के परीक्षा कैलेंडर में पीसीएस जे 2018 की मुख्य परीक्षा की तारीख आनन-फानन में तय कर दी। अब मुख्य परीक्षा की तारीख में बदलाव तय माना जा रहा है। तारीखें आगे बढ़ी तो फरवरी और मार्च में प्रस्तावित परीक्षाओं के कार्यक्रम में भी उलटफेर की संभावना अधिक है।

मानक अवधि के पालन की मजबूरी 

यूपीपीएससी ने पीसीएस जे 2018, की मुख्य परीक्षा की तारीखें 30, 31 जनवरी और एक फरवरी को तय की है, जबकि इसकी प्रारंभिक परीक्षा के परिणाम निकलने के बाद अभ्यर्थियों को कम से कम 45 दिन का समय देने की मानक अवधि के पालन की मजबूरी भी रहेगी। परिणाम अभी आया नहीं है। अभ्यर्थियों ने मेंस की तारीख पर यूपीपीएससी में आपत्ति भी दर्ज कराई है। इससे 30 जनवरी से निर्धारित परीक्षा कार्यक्रम को बदलकर आगे बढ़ाए जाने की संभावना अधिक है। परीक्षा कैलेंडर के अनुसार यूपीपीएससी ने 17, 18 और 20 फरवरी को आरओ/एआरओ भर्ती 2017 की मुख्य परीक्षा भी प्रस्तावित की है। जबकि पांच और छह मार्च को सहायक कुल सचिव परीक्षा 2018, डेंटल सर्जन भर्ती 2018 की स्क्रीनिंग परीक्षा 17 मार्च को और प्रोग्रामर व कंप्यूटर आपरेटर भर्ती की परीक्षा 30 मार्च को प्रस्तावित की है। ऐसे में पीसीएस जे की मुख्य परीक्षा स्थगित होने पर इसके फरवरी में ही होने की संभावना अधिक है। सचिव जगदीश का कहना है कि पीसीएस जे की प्रारंभिक परीक्षा के परिणाम के बाद अभ्यर्थियों को तैयारी के लिए नियमानुसार समय दिया जाएगा। लेकिन, मुख्य परीक्षा की तारीख पर निर्णय परीक्षा समिति की बैठक में होना है।

Posted By: Nawal Mishra

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप