प्रयागराज, जेएनएन। दिल्ली-हावड़ा रेल मार्ग पर सिराथू के पास युवक ट्रेन की चपेट में आ गया। डीएफसी लाइन पर मालगाड़ी के इंजन में फंसकर युवक का शव आठ किलोमीटर तक घिसटता रहा। सिराथू के पास काशीराम कालोनी के समीप खेतों में काम कर रहे लोगों ने देखा तो किसी तरह मालगाड़ी के चालक को इस बारे में बताया।

पुलिस ने इंजन से निकाला शव, अभी नहीं हो सकी पहचान

ग्रामीणों का इशारा समझकर चालक ने ट्रेन रोकी। कुछ देर में वहां भीड़ जमा हो गई। इस बारे में खबर पाकर सैनी थाने की पुलिस वहां पहुंची और युवक के शव को इंजन के पहिए से बाहर निकाला। इस दौरान ट्रेन एक घंटे तक ट्रैक पर खड़ी रही। मृतक की पहचान नहीं हो सकी है। पुलिस ने पंचनामा कर पोस्टमार्टम के लिए भेजा है। अब कोई परिवार खोजते हुए आएगा तो उसे पोस्टमार्टम हाउस भेजा जाएगा तब जाकर पहचान हो सकेगी।

रेलवे ट्रैक पर लेटकर युवक ट्रेन से कटा

प्रतापगढ़ के विश्वनाथगंज रेलवे स्टेशन पर ट्रेन के चलते ही युवक ने ट्रैक पर लेटकर जान दे दी। घटना की जानकारी होने पर पुलिस ने मौके पर पहुंचकर घटना की जांच की।टिकरी मानधाता निवासी 22 वर्षीय रवि पटेल पुत्र राम आसरे रविवार को सुबह आठ बजे बाइक से विश्वनाथगंज स्थित मानधाता मोड़ के लिए निकला था। मानधाता मोड़ पर वह अपना ट्रक बनवा रहा था। अचानक वहां से विश्वनाथगंज रेलवे स्टेशन पहुंचा और बाइक रेलवे स्टेशन के बाहर खड़ी कर दी। उसने देखा कि प्लेटफार्म पर प्रयागराज अयोध्या पैसेंजर खड़ी थी। जैसे ही ट्रेन ट्रेन चली, वह ट्रैक पर सिर रखकर लेट गया और ट्रेन के नीचे आने से उसका सिर व धड़ अलग हो गया। कुछ देर बाद पहचान होने पर इसकी जानकारी घरवालों को मिली तो वह मौके पर पहुंच गए।

Edited By: Ankur Tripathi