प्रयागराज, जागरण संवाददाता। बहुजन समाज पाटी (बसपा) की तरफ से प्रबुद्ध सम्मेलन के नाम पर ब्राह्मणों को रिझाने की कोशिश हो रही है। यह वास्तव में हिंदू समाज को तोडऩे की भी कोशिश है। यह कहना है भाजपा काशी क्षेत्र संयोजक देवेंद्र नाथ मिश्र का। उन्होंने बैठक कर राजनीतिक दलों द्वारा चुनावी लाभ लेने के लिए किए जा रहे जातीय सम्मेलनों पर निशाना साधा। कहा कि ब्राह्मण समाज को हमेशा हाशिए पर रखने वाले राजनीतिक दल के लोग अचानक अपना प्यार लुटा रहे हैं। यह बात समझ से परे है।

सपा ओर बसपा में ब्राह्मण वोट के लिए मची है होड़ : देवेंद्र नाथ मिश्र

भाजपा नेता बोले कि सपा और बसपा में होड़ मची हैं कि ब्राह्मण वोट को अपने पाले मे खींचा जाए। कुछ ही महीने बाद विधान सभा चुनाव होने वाले हैं। ऐसे प्रायोजित सम्मेलन का निहितार्थ तलाशा जा सकता है।

सपा बसपा द्वारा भगवान परशुराम की मूर्ति लगवाने की प्रतिस्पर्धा कहीं न कहीं सत्ता के लालच में कोरा आश्वासन मात्र है। आज तक इस समाज के हित में एक भी सकारात्मक कदम किसी दल ने नहीं उठाया।

ब्राह्मण समाज हमेशा निर्णायक भूमिका निभाता है : फूलचंद्र दुबे

फूलचंद दुबे ने कहा कि ब्राह्मण समाज एक ऐसा जागरूक समाज है, जो हमेशा निर्णायक भूमिका निभाता है। समय निकल जाने के बाद इस समाज को धोखा देने वाले राजनीतिक दलों को आइना जरूर दिखाया जाना चाहिए। बृजेश मिश्र ने कहा कि ब्राह्मण समाज स्वयं निर्णय लेने में सक्षम है। अपने हित के बारे में जागरूक है। समय आने पर अपनी ताकत जरूर दिखाएगा।

अपनी जागीर समझने वाले लोग मुगालते में न रहें : गिरि बाबा

गिरी बाबा ने कहा कि समाज को दिशा देने वाला जागरूक समाज वैशाखी के सहारे चलाने को तैयार नहीं है। ब्राह्मण समाज के ठेकेदार बनने वाले दल पहले अपने द्वारा किए गए इस समाज के हित और उत्थान के रिपोर्ट कार्ड के साथ मैदान में आएं और ब्राह्मण समाज को अपनी जागीर समझने वाले लोग मुगालते में न रहें। बैठक मे आशुतोष पांडेय, जयवर्धन त्रिपाठी, राकेश शुक्ला, राजेश शर्मा, चंद्रशेखर ओझा, राजीव भारद्वाज, अनुपम मिश्र, चंदन शुक्ला, रमेश ओझा आदि मौजूद रहे।

Edited By: Brijesh Srivastava