प्रयागराज, जेएनएन। इंटरनेट मीडिया पर अब ऐसा गिरोह सक्रिय है जो पहले लोगों से मदद मांगता है और फिर जाल में फंसाता है। बाद में पुलिस का अधिकारी बनकर धमकाता भी है। कुछ ऐसा ही इन दिनाें साइबर अपराध में शामिल युवतियां कर रही हैं। फेसबुक और वाट्सएप के जरिए न्यूड कॉल को उन्‍होंने हथियार बना लिया है। वे इसके जरिए ब्लैकमेलिंग और फ्राड का खेल कर रही हैं। ऐसे मामले लगातार बढ़ रहे हैं। ऐसे में आपको भी सावधान रहने की आवश्‍यकता है। सजग रहें और इंटरनेट मीडिया पर ऐसी शातिर युवतियों के जाल में न फसें।

इंटरनेट मीडिया पर ऐसे लोगों को फंसाती हैं युवतियां

साइबर अपराध से जुड़ी युवतियां पहले वाट्सएप पर मैसेज करती हैं। जवाब देने पर दो-तीन मैसेज के बाद वे पांच से दस हजार रुपये मदद के लिए मांगती हैं। यह भी कहती हैं कि वे दस दिन में रुपये वापस कर देंगी। रुपये गूगल-पे के माध्यम से मांगा जाता है। रुपये देने की बात पर जैसे ही सहमति बनती है, युवती वीडियो कॉलिंग की बात कहती हैं। वीडियो कालिंग करने पर वह न्यूड नजर आती हैं। फोन करने वाले से भी वह ऐसा करने को कहती हैं।

अश्‍लील फोटो वायरल करने की दी जाती है धमकी

इसी बीच साइबर अपराधी स्क्रीन शाट या स्क्रीन रिकार्डिंग कर लेता है। इसके बाद शुरू होता है ब्लैकमेलिंग का सिलसिला। साइबर अपराधी पुलिस का अफसर बनकर धमकाते हैं। मनमाने तौर पर रुपये की मांग की जाती है। रुपये न देने पर मुकदमा दर्ज करने से लेकर इंटरनेट मीडिया पर फोटो वायरल करने की धमकी दी जाती है। शर्म और इज्जत के डर से बहुत से लोग इनकी मांग भी पूरी कर देते हैं। जो नहीं डरते और पुलिस के पास पहुंच जाते हैं, उनका पीछा ये साइबर शातिर छोड़ देते हैं।

ये तो जालसाजों के चंगुल से बाल-बाल बचे

राजरूपपुर क्षेत्र के रहने वाले राजेश कुमार को रागिनी नामक कथित युवती ने वाट्सएप पर मैसेज किया। उनसे दस हजार रुपये की मदद मांगी। वे रुपये देने को राजी हुए तो उसने वीडियो कालिंग करने को कहा। उन्होंने जैसे ही फोन किया उसे देखकर दंग रह गए। तत्काल फोन काट दिया। इससे वे जालसाजी में फंसने से बच गए।

दो बार वीडियो काल आया लेकिन नहीं किया रिसीव

इसी प्रकार राजापुर क्षेत्र के एमआर कुमार ने बताया कि रेशमा नाम की कथित युवती का वाट्सएप पर मैसेज आया। उसने पांच हजार रुपये मदद के लिए मांगे। उसके बाद वीडियो काल आया, उस दौरान वह न्यूड अवस्था में थी। वह उसका इरादा भांप लिया और काल को काट दिया। इसके बाद दो बार और वीडियो काल आया, लेकिन उन्होंने रिसीव नहीं किया।

ऐसे बरतें सावधानी

-अज्ञात नंबर से आए वीडियो काल रिसीव न करें।

-ऐसे मामलों की तत्काल पुलिस से शिकायत करें।

-अनजान लोगों से दोस्ती करने से बचें।

-आपकी प्रोफाइल पर कोई भी व्यक्ति संदिग्ध गतिविधि करता है तो उसे तुरंत ब्लाक या अंफ्रेंड करें।

Edited By: Brijesh Srivastava