प्रयागराज, जेएनएन। हंडिया स्थित लाल बहादुर शास्त्री आयुर्वेदिक मेडिकल कॉलेज की बीएएमएस की छात्रा श्वेता ने मंगलवार को फांसी लगाकर खुदकशी कर ली। तीन फरवरी को जारी नतीजे में छात्रा फेल हो गई थी। उसने सुसाइड नोट में लिखा है कि पति के अवैध संबंध और प्रताडऩा से त्रस्त होकर वह अपनी जान दे रही है।

देवरिया के कैंट इलाके की रहने वाली थी छात्रा

देवरिया जनपद में कैंट इलाके के कूड़ा घाट न्यू कॉलोनी सलेमपुर निवासी पारसनाथ और सुमन की पुत्री 26 वर्षीय श्वेता ने पिछले साल हंडिया स्थित आयुर्वेदिक मेडिकल कॉलेज में दाखिला लिया था। वह कॉलेज के पास वार्ड नंबर आठ में राजमणि चौरसिया के गल्र्स हॉस्टल के एक कमरे में अकेले रहती थी। श्वेता मंगलवार को दिन भर कमरे से नहीं निकली तो बगल के कमरे में रहने वाली छात्राओं ने दरवाजा खटखटाया। कोई जवाब नहीं मिलने से संशकित छात्राओं ने मकान मालिक को बताया। कुछ देर में सूचना पाकर हंडिया थाने की पुलिस वहां पहुंची।

सुसाइड नोट में लिखा, पति की प्रताडऩा से त्रस्त होकर दे रही है जान

पुलिस ने दरवाजा तोड़ा तो कमरे में श्वेता का शव तख्त के ऊपर पंखे के हुक में दुपट्टïे के फंसे लटका था। पुलिस को वहां एक पन्ने का सुसाइड नोट मिला, जिसमें श्वेता ने लिखा था कि वह अपने पति राजकुमार की प्रताडऩा से त्रस्त होकर जान दे रही है। पति के कई महिलाओं से संबंध हैं। पूछने पर उसकी पिटाई करता है। उसकी मौत के लिए सिर्फ पति ही जिम्मेदार है। मायके वालों की कोई गलती नहीं है।

पिता का आरोप, सरकारी शिक्षक पति बेटी को करता था परेशान

इंस्पेक्टर अरविंद चतुर्वेदी ने बताया कि इसकी जानकारी पिता पारसनाथ को फोन पर दे दी गई है। वह प्रयागराज के लिए रवाना हो गए हैैं। पिता ने फोन पर बताया कि देवरिया के कौला मुडेरवा गांव निवासी राजकुमार से पिछले साल जून में श्वेता का विवाह किया गया था। राजकुमार देवरिया में ही सरकारी स्कूल में शिक्षक है। वह श्वेता को बहुत यातना दे रहा था। इसी तनाव से श्वेता फस्र्ट सेमेस्टर में फेल हो गई थी। वह फोन पर पति की करतूतों के बारे में बताती थी।

Posted By: Brijesh Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस