प्रयागराज, जागरण संवाददाता। पाकिस्तान प्रायोजित आतंकी माड्यूल से जुड़े संदिग्ध आतंकियों के प्रयागराज शहर में होने की खबर थी। यह खबर पुख्ता होते ही लखनऊ, वाराणसी और प्रयागराज यूनिट की एटीएस ने जाल बिछा दिया था। पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों को जानकारी देने के बाद स्थानीय पुलिस की मदद मांगी गई। इसके बाद मंगलवार की सुबह से लेकर रात नौ बजे तक एटीएस का सर्च आपरेशन चला। करेली के अलग-अलग मोहल्लों में एटीएस ने सर्च आपरेशन चलाया। 

मदरसा संचालक व उसके ट्रेवेल्‍स संचालक के भाई के घर छापेमारी

खुल्दाबाद, शाहगंज, करेली थाने की पुलिस के साथ एटीएस ने वसीयाबाद, करामत की चौकी, पहलवान चौराहा, तिरंगा चौराहा, जीटीबी नगर, 60 फीट रोड समेत अन्य मोहल्ले में छानबीन तेज की। एसटीएस के सीओ, इंस्पेक्टर, दारोगा पहले वसीयादबाद स्थित मदरसा संचालक सैफर्रहमान के घर पहुंचे। वहां पूछताछ के बाद तिरंगा चौराहा निवासी उनके भाई ट्रेवेल्स संचालक उबैदुर्रहमान के घर छापेमारी की। यहां केवल उबैदुर्रहमान की बीवी मिली, जिससे पूछताछ की गई।

एटीएस टीम ने जीशान को दबोचा

एटीएस टीम जीटीबी नगर के एक ब्लाक निवासी जीशान के घर छापेमारी की। वहां से जीशान को दबोचने के बाद उसके कुछ साथियों की तलाश में करामत की चौकी व अन्य मोहल्ले में गई मगर कोई नहीं मिला। फिर टीम वापस वसीयाबाद लौटी, जहां अफजलुल मदरसा में मौजूद कुछ लोगों से सवाल-जवाब किए। इसके बाद मदरसे से चंद कदम दूर स्थित मौलाना डाक्टर शम्सुर्रहमान के घर एटीएस पहुंची और काफी देर तक पूछताछ व छानबीन करती रही।

15 घंटे तक चला सर्च आपरेशन

जीशान के अलावा 60 फीट रोड से एक शख्स को पकडऩे टीम को कुछ अहम सुराग मिले, जिसके बाद नैनी के डांडी में कार्रवाई की। रात करीब नौ बजे तक जांच, पूछताछ और कार्रवाई चली। करीब 15 घंटे तक पुलिस भी एटीएस के साथ सुबह से लेकर शाम तक इधर-उधर दौड़ती रही। हालांकि पुलिसवालों को एटीएस के सर्च आपरेशन की वजह नहीं पता चल पा रही थी। पुलिस अधिकारी भी इस मामले में खामोश रहे।

Edited By: Brijesh Srivastava