जागरण संवाददाता, प्रयागराज : पूर्व सांसद अतीक अहमद और शातिर बदमाश बच्चा पासी के गुर्गों पर पुलिस का शिकंजा लगातार कस रहा है। पुलिस की सूची में करीब 57 गुर्गे हैं। यह अपने घरवालों के साथ ही कई करीबियों को भी शस्त्र लाइसेंस दिलवाए हैं। अब इनके बारे में पता लगाया जा रहा है। कुछ के बारे में पुलिस को जानकारी भी मिली है, जिसके आधार पर उनसे पूछताछ की जा रही है। इन सभी के शस्त्र लाइसेंस के निरस्तीकरण की कार्रवाई जल्द ही शुरू की जाएगी।

पूर्व सांसद अतीक अहमद के अधिकांश गुर्गें धूमनगंज और करेली क्षेत्र में रहते हैं। कुछ कौशांबी में भी हैं। इनमें से कई लोगों के बारे में पुलिस पहले ही पता लगा चुकी है, लेकिन बहुत से ऐसे थे जिनके नाम बाद में सामने आए। इधर, कुछ दिनों पहले बकायदा इनकी सूची बनाई गई। इसमें 35 नाम सामने आए। इन सभी ने अपने घरवालों, रिश्तेदारों के साथ ही करीबियों के नाम शस्त्र लाइसेंस लिया। आश्चर्य की बात यह है कि अपनी धाक जमाने के लिए शस्त्रों का इस्तेमाल यह खुद करते हैं। इसी तरह शातिर बदमाश बच्चा पासी के गैंग के 22 गुर्गो को चिह्नित किया गया है। इन्होंने भी कुछ ऐसा ही किया है। अब पुलिस इन सभी के शस्त्रों के बारे में जानकारी एकत्र कर रही है।

इंस्पेक्टर धूमनगंज अरुण चतुर्वेदी का कहना है कि पूर्व सांसद अतीक अहमद और बच्चा पासी के गुर्गों ने जो शस्त्र लाइसेंस दूसरों को दिलाए थे, इसकी पूरी जानकारी जुटाई जा रही है। मंगलवार से इसमें और तेजी लाई जाएगी। जल्द से जल्द इसकी पूरी रिपोर्ट बनाकर उच्चाधिकारियों को दी जाएगी, ताकि शस्त्र लाइसेंस के निरस्तीकरण की कार्रवाई की जा सके।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस