प्रयागराज, जेएनएन। सर्व शिक्षा अभियान के अंतर्गत एक पहल शिक्षा समिति ने समाज के वंचित तबके के बच्चों के लिए अपने छठवें शिक्षा केंद्र के रूप में मिंटो पार्क के मलिन बस्ती में निश्शुल्क कक्षाओं के संचालन का शुभारंभ किया। कीडगंज थाना प्रभारी रमेश चौबे, ईसीसी में गणित विभाग के डा. पीयूष खरे, डा. स्वप्निल श्रीवास्तव एवं भौतिकी विभाग के डा. प्रेम प्रकाश सिंह उपस्थित रहे।

अभिभावकों से आग्रह कि करें सकारात्मक सहयोग

अतिथियों ने समिति के सदस्यों का अभिनंदन किया एवं बस्ती के अभिभावकों से आग्रह किया कि वो परिवर्तन के इस कार्य में अपना सकारात्मक योगदान प्रदान करें। ताकि आने वाली पीढियां शिक्षित होकर अपना भविष्य उज्ज्वल कर सकें। समिति के सचिव विवेक कुमार दुबे ने बताया कि समिति ने इससे पहले पांच अन्य शिक्षा केंद्रों द्वारा यमुना पुल के आसपास की बस्तियों में शिक्षा की अलख जगाई है। उन्होंने बच्चों एवं उनके अभिभावकों को नशे एवं जुए से दूर रहने की शपथ दिलाई।अंत मे सभी बच्चों को पेन, पेंसिल, रबर, कापी एवं स्वामी विवेकानंद की जीवनी प्रदान की गई।

कम से कम पांच प्राथमिक व जूनियर स्कूलों तथा कस्तूरबा विद्यालयों का निरीक्षण

प्रयागराज : प्रदेश के सभी जिलों में परिषदीय स्कूलों के निरीक्षण की प्रक्रिया तेज हो चुकी है। प्रयागराज मंडल के स्कूलों का निरीक्षण नौ और दस दिसंबर को किया जाएगा। इसमें पठन पाठन के स्तर को जांचने के साथ ही स्कूलों के आधारभूत ढांचे में कितना सुधार हुआ इसे भी देखा जाएगा। बीएसए प्रवीण कुमार तिवारी ने बताया कि विभाग के उच्चाधिकारी कम से कम पांच प्राथमिक व जूनियर स्कूलों तथा कस्तूरबा विद्यालयों का निरीक्षण करेंगे। इसमें आपरेशन कायाकल्प के तहत कराए गए कार्यों की गुणवत्ता था सभी 19 बिंदुओं को देखा जाएगा। अध्यापकों की उपस्थिति, विद्यार्थियों के नामांकन व उपस्थिति में क्या सुधार हुआ इसे भी देखा जाएगा। निश्शुल्क दी जनी वाली सामग्रियों के संदर्भ में जो राशि अभिभावकों के खाते में भेजी जा रही है, उसे लेकर होने वाले डीबीटी संबंधी कार्यों को भी देखा जाएगा। मिशन प्रेरणा के तहत क्या कदम उठाए गए। उससे विद्यालय में आए बदलाव, शैक्षिक सामग्री के रखरखाव की स्थिति भी निरीक्षण का बिंदुओं में शामिल है। इसके अतिरिक्त नवीन पंजिका के अपडेट होने, किचन गार्डेन, शिक्षक डायरी, मध्याह्न भोजन मेन्यू, सक्रिय पुस्तकालय आदि भी विद्यालयों के मूल्यांकन का आधार होंगे। प्रत्येक स्कूल में साफ सफाई व्यवस्था भी दुरुस्त होनी चाहिए।

Edited By: Ankur Tripathi