प्रयागराज, जेएनएन। सीएए के खिलाफ आंदोलन के क्रम में रविवार को अपेक्षाकृत शांति है। चौक क्षेत्र में साप्ताहिक बंदी की वजह से सभी दुकानें बंद हैं। वहीं ठेलों पर दुकानदारी हो रही है। उपद्रव तो नहीं हुआ लेकिन पूरे शहर में पुलिस मुस्तैद है। हर सार्वजनिक स्थलों पर फोर्स की तैनाती है। वहीं सरकारी संपत्ति बचाने और जानमाल की सुरक्षा के लिए जिला प्रशासन व पुलिस महकमा रविवार को भी सतर्क रहा। इस लिहाज से जीरो रोड बस स्टेशन परिसर खाली करा लिया गया। दोपहर तक एक भी बसें स्टेशन परिसर में नहीं थीं। बसों का संचालन बस अड्डे से दूर बैरहना चौराहे के निकट बांगड़ धर्मशाला से चलाया गया था। इससे यात्रियों को परेशानी का सामना भी करना पड़ रहा है।

सिविल लाइंस डिपो से कम चलीं बसें

रविवार को भी दोपहर बाद जीरो रोड डिपो से बसों का संचालन रोक दिया गया। जबकि सिविल लाइंस डिपो से बसें बहुत कम चलीं। ज्यादातर बसें शहर के बाहरी हिस्से में ही रोक दी जा रही हैं, जिससे यात्रियों को  असुविधा हो रही है। जीरो रोड डिपो से मध्य प्रदेश, मीरजापुर, राबर्टसगंज, सोनभद्र, बांदा, चित्रकूट आदि के लिए बसें चलती हैं। रविवार को दिन में डेढ़ बजे तक डिपो से बसों का संचालन ठीक-ठाक हुआ। इसके बाद डीएम के निर्देश पर बसों का संचालन रोक दिया गया। डेढ़ बजे के बाद इस डिपो तक आने-जाने वाली बसों को बैरहना चौराहा के पास बांगड़ धर्मशाला पर ही रोक दिया गया। लिहाजा, यात्रियों को वहां से आना-जाना पड़ा। डिपो तक बसों के न आने-जाने से यात्रियों की संख्या में करीब 30 से 35 फीसद की कमी दर्ज की गई है।

प्रतिदिन करीब डेढ़ से दो लाख रुपये राजस्व का नुकसान हो रहा

जीरो रोड डिपो के सहायक क्षेत्रीय प्रबंधक रविंद्र सिंह ने बताया कि प्रतिदिन करीब डेढ़ से दो लाख रुपये राजस्व का नुकसान हो रहा है। वहीं, सिविल लाइंस डिपो में कुछ बसें शनिवार शाम और कुछ रविवार सुबह आईं लेकिन बस अड्डा लगभग खाली ही रहा। वाराणसी, जौनपुर, आजमगढ़ रूट की बसें अलोपीबाग चुंगी से चलाई जा रही हैं, जबकि लखनऊ, प्रतापगढ़, गोंडा, बहराइच, फैजाबाद रूट की बसों का संचालन मोती लाल नेहरू राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान के पास से किया जा रहा है। कानपुर रूट की बसें नेहरू पार्क के पास से चलाई जा रही हैं। इन रूटों की बसों में भी यात्रियों की संख्या घटी है।

बोले सिविल लाइंस डिपो के सहायक क्षेत्रीय प्रबंधक

सिविल लाइंस डिपो के सहायक क्षेत्रीय प्रबंधक सीबी राम ने बताया कि इन दोनों डिपो और लीडर रोड व प्रयाग डिपो मिलाकर प्रतिदिन करीब 14-15 लाख रुपये का नुकसान परिवहन विभाग को हो रहा है।

Posted By: Brijesh Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस