जागरण संवाददाता, प्रयागराज : खीरी थाना क्षेत्र के सिरहिर गांव के किसान इंद्रदेव मिश्रा की हत्या के मामले में दूसरे दिन भी पुलिस नामजद आरोपितों को गिरफ्तार करने में विफल रही। वहीं मृतक के स्वजनों ने इस सनसनीखेज हत्याकांड में पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगाया है। पुलिस पर लगातार मामले की अनदेखी की बात कही गई है, बावजूद इसके जब थाने पर जाकर कई बार शिकायत की गई थी।

कोरांव/खीरी प्रतिनिधि के अनुसार मृतक इंद्रदेव के पुत्र नितेश और विनोद का आरोप है कि पट्टे की भूमि को लेकर काफी समय से विवाद चल रहा था। कई बार आरोपितों ने धमकी दी। पुलिस से शिकायत की गई, लेकिन आरोपितों के खिलाफ कुछ नहीं हुआ। इंद्रदेव की पत्नी का आरोप है कि कुछ समय पहले खुद उनके पति इस मामले में पूरे परिवार के साथ थाने गए थे, लेकिन पुलिस ने भगा दिया था। इससे आरोपित मनबढ़ हो गए थे और 17 जनवरी की सुबह इंद्रदेव को लाठी-डंडे और सब्बल से पीट-पीटकर मौत के घाट उतार दिया। आरोपितों के अब तक न पकड़े जाने पर पूरा परिवार दहशत में हैं कि कोई और वारदात न हो जाए। उधर पुलिस का कहना है कि आरोप बेबुनियाद हैं। आरोपितों की धरपकड़ के लिए दबिश दी जा रही है। अचेत होकर गिर पड़ी पत्नी

सोमवार को दिन में पोस्टमार्टम के बाद इंद्रदेव का शव घर लाया गया तो उनकी पत्नी प्रेमा देवी अचेत होकर गिर पड़ीं। पुत्र-पुत्री के साथ ही अन्य स्वजनों की भी रो-रो कर हालत खराब थी। ग्रामीण और नाते-रिश्तेदार सभी को सांत्वना देने में जुटे थे। कुछ देर तक शव यहां रखने के बाद उसे अंतिम संस्कार के लिए ले जाया गया। सप्ताहभर में हुई दूसरी बड़ी घटना

खीरी थाना क्षेत्र में सप्ताह भर के भीतर ही दूसरी बड़ी घटना हुई है। 10 जनवरी को लालतारा के आभूषण व्यवसायी गया प्रसाद सोनी के पुत्र शिवम को अगवा करने के बाद हत्या कर दी गई थी। मामले में आठ आरोपित गिरफ्तार जा चुके हैं। अभी यह घटना क्षेत्र के लोग भुला भी नहीं सके थे कि 17 जनवरी की सुबह सिरहिर के इंद्रदेव मिश्रा को मौत के घाट उतार दिया गया। इसी प्रकार कुछ माह पहले लालतारा के रोजगार सेवक संजय शुक्ला उर्फ सत्येंद्र शुक्ला की गला रेतकर हत्या कर दी गई थी। इसके बाद पालपट्टी के सौरभ की गला काटकर हत्या कर दी गई थी।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप