प्रयागराज, जेएनएन। जुमे की नमाज के बाद अटाला बवाल के मामले में पुलिस ने नामजद अभियुक्त मोहम्मद सगीर उर्फ डियर को गिरफ्तार किया तो पूछताछ में उसने बवाल में शामिल होने की बात स्वीकार की। साथ ही पुलिस को यह भी बताया कि वह अटाला स्थित एक मस्जिद में जुमे की नमाज अदा करने गया था। नमाज के बाद मस्जिद में विरोध-प्रदर्शन करने की बात कही गई थी। तब वह अन्य युवकों के साथ सड़क पर उतर गया और उपद्रव में शामिल हो गया था। पुलिस का दावा है कि सगीर ने कई और उपद्रवियों को नाम बताया है, जिनकी तलाश की जा रही है।

फरार हाफिज सहित कई की तलाश में दी जा रही दबिश

सीओ प्रथम सत्येंद्र तिवारी का कहना है कि सगीर अटाला मोहल्ले का रहने वाला है। उसके खिलाफ खुल्दाबाद थाने में मुकदमा है। वह ई-रिक्शा चलाता था और मांस की सप्लाई का काम करता था। बवाल के बाद वह पहले करेली में छिपा था और उसके बाद एक रिश्तेदार के यहां पनाह ली थी। अटाला का माहौल धीरे-धीरे सामान्य होने लगा तो वापस मोहल्ले में पहुंच गया था। तभी उसके बारे में पता चला तो गिरफ्तार कर लिया गया।

एआइएमआइएम के जिलाध्यक्ष शाह आलम की तलाश में छापेमारी

पूछताछ के बाद उसे कोर्ट में पेश किया गया, जहां से उसे बुधवार रात न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया। उधर, अटाला बवाल में शामिल रहे मस्जिद के सफाईकर्मी अखलाक का ब्रेनवाश करने वाला मुतवल्ली हाफिज, पार्षद फजल खां, एआइएमआइएम के जिलाध्यक्ष शाह आलम सहित अन्य अभियुक्तों की भी तलाश चल रही है। बताया गया कि सभी अपना-अपना घर छोड़कर फरार हैं। उनकी लोकेशन ट्रेस की जा रही है और जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

Edited By: Ankur Tripathi