प्रयागराज,जेएनएन। इलाहाबाद विश्वविद्यालय (इविवि) के प्रोफेसर मोहम्‍मद शाहिद दिल्ली के निजामुद्दीन तब्लीगी जमात में शामिल हुए थे। यह बात उन्‍होंने काफी दिन तक छिपाए रखी। पूछताछ के बाद इलाहाबाद विश्वविद्यालय के प्रोफेसर मोहम्‍मद शाहिद को पुलिस ने करेली के महबूबा गेस्ट हाउस में क्वारंटाइटन कर दिया गया है।

विश्वविद्यालय के रजिस्‍टार डॉ एनके शुक्‍ला ने बताया कि ऐसी हरकत करने वाले राजनीति शास्‍त्र विभाग के प्रोफेसर मोहम्‍मद शाहिद के खिलाफ इलाहाबाद विश्‍वविदयालय प्रशासन कार्रवाई कर सकता है। प्रोफेसर मोहम्‍मद शाहिद ने तब्‍लीगी जमात में शामिल होने की बात छिपाते हुए कई को मुसीबत में डाला है। इनके खिलाफ पुलिस ने बुधवार रात शिवकुटी थाने में महामारी एक्ट के तहत  मुकदमा दर्ज किया है।

इतना नहीं एक बार उन्‍होंने पुलिस प्रशासन को गुमराह भी कर दिया था। पुख्‍ता सुबूत हाथ लगने के बाद बुधवार रात पुलिस उनके घर पहुंची और पूछताछ के बाद उन्हें करेली के महबूबा गेस्ट हाउस में क्वारंटाइटन कर दिया। विवि के रजिस्‍टार डॉ एनके शुक्‍ला ने बताया कि ऐसी हरकत करने वाले राजनीति शास्‍त्र विभाग के प्रोफेसर मोहम्‍मद शाहिद के खिलाफ के खिलाफ इविवि के अधिनियम के तहत कार्रवाई हो सकती है। जिसने तब्‍लीगी जमात में शामिल होने की बात छिपाते हुए सैकडो छात्रों, शिक्षकों और कर्मचारियों की जान से खिलवाड करे। प्रोफेसर मोहम्‍मद शाहिद के बडे भाई वाणिज्‍य विभाग में प्रोफेसर हैं।

दिल्‍ली से लौटने के बाद इविवि की परीक्षा कराने में रहे शामिल

प्रोफेसर शिवकुटी थाना क्षेत्र के एक मुहल्ले में रहते हैं। एसपी सिटी बृजेश श्रीवास्तव ने बताया कि प्रोफसर छह से दस मार्च तक दिल्ली के तब्लीगी जमात में शामिल हुए थे। इसके बाद प्रयागराज लौटे। यहां आने पर विश्वविद्यालय में 12 व 16 मार्च की आयोजित परीक्षा में शामिल हुए। दोनों परीक्षाओं में कुल 144 परीक्षार्थी थे। उनके संपर्क में राजनीति विभाग का स्टाफ, परीक्षा से जुड़े व दूसरे विभाग के भी कई प्रोफेसर संपर्क में आए थे। जिनकी तलाश शुरू हो गई है।

पहले भी पुलिस ने की थी पूछताछ, तब प्रोफेसर ने जमात में शामिल होने से किया था इन्‍कार

एसपी सिटी ने यह भी बताया कि प्रोफेसर से पहले भी कई बार पूछताछ हुई थी, लेकिन उन्होंने जमात में शिरकत करने की बात कबूल नहीं की। बुधवार रात कुछ साक्ष्य मिले तो उनसे दोबारा पूछताछ की गई तो पूरी जानकारी मिली। उन्हें क्वारंटाइन कर दिया गया है और परिवार के सदस्यों को भी क्वारंटाइन किया जाएगा। प्रोफेसर के खिलाफ महामारी एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है।

Posted By: Brijesh Srivastava

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस