प्रयागराज, जेएनएन। शिक्षक पात्रता परीक्षा में प्रतापगढ़ जिले के दो केंद्रों सहित कई स्कूलों का साल्वर गैंग ने पेपर साल्व कराने का ठेका लिया था। इस गैंग के सरगना की एसटीएफ प्रयागराज द्वारा की गई गिरफ्तारी के बाद मामले का राजफाश हुआ। हालांकि सरगना ने इसके पहले भी प्रतियोगी परीक्षाओं मे खेल किया था, लेकिन वह पुलिस की पकड़ में नहीं आ सका था।

पुलिस के साथ एसटीएफ भी सक्रिय थी

शिक्षक पात्रता परीक्षा को लेकर जिले की पुलिस के अलावा एसटीएफ प्रयागराज भी सक्रिय थी। साल्वर गैंग की धरपकड़ के लिए कोचिंग सेंटर संचालकों और परीक्षा केंद्रों के व्यवस्थापकों का मोबाइल नंबर सर्विलांस पर लगाया गया था। इस बीच एसटीएफ प्रयागराज ने रविवार को भोर में छिवकी स्टेशन पर ट्रेन से उतरते ही साल्वर गैंग के लोगों को गिरफ्तार कर लिया।

गैंग सरगना प्रतापगढ़ के रानीगंज निवासी है

गैंग का सरगना राजेंद्र पटेल प्रतापगढ़ जिले के रानीगंज थाना क्षेत्र के जयरामपुर गांव का रहने वाला है। उसने अपने गांव के सहयोगी नीरज शुक्ला और गिरोह के अन्य शातिरों के साथ प्रतापगढ़ जिले के दो केंद्रों के अलावा वाराणसी, प्रयागराज, आजमगढ़ सहि कई जिलों में परीक्षार्थियों की जगह साल्वर बैठाने का ठेका ले रखा था। यहां के जिन दो अभ्यर्थियों ने साल्वर गैंग से सौदा किया था, पुलिस ने उनकी तलाश में दबिश दी।

गैग सरगना पर रानीगंज थाने में तीन केस दर्ज हैं

गैंग का सरगना पहले भी परीक्षाओं में खेल कर चुका है, लेकिन पुलिस की पकड़ में अब तक नहीं आ सका था। इसके खिलाफ रानीगंज थाने में मारपीट के तीन मुकदमे दर्ज है। पांच मई 2020 को जयरामपुर के संतोष कुमार, नौ जुलाई 2021 को इसी गांव के मुंशीलाल पटेल और 13 जुलाई 2021 को इसी गांव की स्नेहलता ने राजेंद्र के खिलाफ मारपीट, बलवा का मुकदमा दर्ज कराया था।एसपी सतपाल अंतिल ने बताया कि गिरोह के सरगना रानीगंज थाने में मारपीट के मुकदमें दर्ज है। उसका कोई और आपराधिक इतिहास नहीं है।

प्रतापगढ़ के साइबर शातिरों का पूरे देश में फैला है नेटवर्क

जिले के साइबर शातिरों का पूरे देश में नेटवर्क फैला है। एटीएम कार्ड हैक करके कई लोगों का हजारों रुपये हड़प कर चुके हैं। यही नहीं, एटीएम कार्ड का कोड और बैंक का एकाउंट नंबर, आधार नंबर पूछकर लाखों रुपये हड़प कर चुके हैं। जेठवारा, मोहनगंज, अंतू इलाके में साइबर शातिरों का गिरोह सक्रिय है।

Edited By: Brijesh Srivastava