प्रयागराज, जागरण संवाददाता। डेंगू और अन्य संचारी रोगों की रोकथाम के लिए मलेरिया विभाग के नुमाइंदों की कार्यशैली जिलाधिकारी संजय कुमार खत्री को रास नहीं आई। डेंगू व संचारी रोगों के नियंत्रण कक्ष का निरीक्षण कर डीएम ने वार्डों में दवा छिड़काव की स्थिति की जानकारी ली। एक मलेरिया इंस्पेक्टर की लापरवाही पता चली तो वे नाराज हुए। साथ ही उन्‍हें चेतावनी दी। कहा कि दो दिनों में कार्यशैली सुधार लें नहीं तो कार्रवाई को तैयार रहें।

साफ-सफाई और दवा छिड़काव की स्थिति कमजोर रही

निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी ने शहर में मलेरिया इंस्पेक्टरों की वार्ड वार्डों और नगर निगम के अधिकारियों की जोन वार ड्यूटी के बारे में जानकारी ली। ग्रामीण क्षेत्रों में खंड विकास अधिकारियों के दिशा निर्देशन में ग्राम सचिवों की ड्यूटी लगाई गई है। जिलाधिकारी ने क्षेत्रवार मिल रहे डेंगू के मरीजों के बारे में जानकारी ली। उन क्षेत्रों में दवा छिड़काव की स्थिति मलेरिया विभाग से पूछी। मोतीलाल नेहरू मेडिकल कालेज के आसपास के क्षेत्रों में साफ सफाई और दवा छिड़काव की स्थिति कमजोर मिली तो उन्होंने संबंधित मलेरिया इंस्पेक्टर को चेतावनी दी। कहाकि दो दिनों में सुधार लाएं नहीं तो कार्रवाई होगी।

बोले जिलाधिकारी, मलेरिया व डेंगू उन्‍मूलन के लिए टीम सक्रियता बढ़ाए

जिलाधिकारी ने कहा कि मलेरिया और डेंगू उन्मूलन के लिए जिन भी घरों में टीम जाए उनका नाम और मोबाइल नंबर जरूर लिख लिया जाए। कहा कि एक टीम प्रत्येक दिन कम से कम 100 घरों का निरीक्षण करे। क्रास चेकिंग के लिए भी टीम भेजी जाए। यह टीम भी साफ सफाई और दवा छिड़काव पर नजर रखे। नियंत्रण कक्ष के निरीक्षण के दौरान मुख्य चिकित्साधिकारी डा. नानक सरन, मलेरिया अधिकारी और जिला पंचातय राज अधिकारी भी मौजूद रहे।

डेंगू की रोकथाम में स्वास्थ्य महकमा साबित हो रहा नकारा

शहर में डेंगू तेजी से पांव पसार रहा है लेकिन, इसकी रोकथाम के लिए स्वास्थ्य महकमा की तैयारी नाकाफी है। जिला मलेरिया विभाग छह कर्मचारियों के भरोसे 80 वार्डों में एंटीलार्वा का छिड़काव करा रहा। नगर निगम के सदन हाल में डेंगू और संचारी रोगों के नियंत्रण के मसले पर हुई बैठक में लापरवाही सामने आने पर महापौर अभिलाषा गुप्ता ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग इसमें नकारा साबित हो रहा है। विभाग को जो कार्ययोजना बनाकर चलना चाहिए था, वह नहीं बना पाया।

Edited By: Brijesh Srivastava