प्रयागराज, जागरण संवाददाता। बार काउंसिल आफ उत्तर प्रदेश के लेटर पैड का दुरुपयोग करने का मामला सामने आया है। बार काउंसिल के कार्यवाहक अध्यक्ष अधिवक्ता देवेन्द्र मिश्र नगरहा ने प्रयागराज के सिविल लाइंस थाने में अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है। देवेन्द्र मिश्र का आरोप है कि बार काउंसिल आफ उत्तर प्रदेश केवल अधिवक्ता के संदर्भ में ही पत्र जारी करता है। वहीं कतिपय लोगों ने धोखाधड़ी कर फर्जी तरीके से उस लेटर पैड का इस्तेमाल प्रशानिक अधिकारी और राजनीतिक दलों को पत्र लिखने में किया।

कार्यवाहक अध्‍यक्ष का कूटरचित हस्‍ताक्षर भी बनाया गया

बार काउंसिल आफ उप्र के कार्यवाहक अध्यक्ष का कूटरचित हस्ताक्षर भी बनाया गया, जिससे बार काउंसिल की छवि को खराब करने की कोशिश की जा रही है। यह भी आरोप है कि देवेंद्र मिश्र को बदनाम करने और उन्हेंं नुकसान पहुंचाने का प्रयास भी किया जा रहा है। इस संबंध में इंस्पेक्टर सिविल लाइंस शिशुपाल शर्मा का कहना है कि तहरीर के आधार पर मुकदमा दर्ज कर विवेचना की जा रही है।

ट्रेन में लूटपाट करने वाले दो शातिर गिरफ्तार

दो माह पहले सियालदह-अजमेर विशेष एक्सप्रेस में लूटपाट करने वाले दो शातिरों को जीआरपी ने प्रयागराज छिवकी स्टेशन पर पकड़ा। जीआरपी ने दोनों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करके जेल भेज दिया। जीआरपी प्रयागराज और आरपीएफ प्रयागराज छिवकी की टीम को सूचना मिली कि छिवकी स्टेशन के प्लेटफार्म 2-3 के पूर्वी छोर पर दो संदिग्ध टहल रहे हैं। उन्हें पकड़ा गया। टीम की पूछताछ मेें उसने अपना नाम शाहिद पुत्र मुस्तकीम निवासी रेवती, बलिया बताया। उसने बताया कि वह मीरा गली मोहल्ला थाना दारागंज में नाटे यादव के मकान में किराये पर रहता है। सागर वाल्मीकि पुत्र शिव शंकर निवासी कच्ची सड़क समइया माता मंदिर दारागंज, उसकी मदद करता है। जीआरपी प्रयागराज प्रभारी निरीक्षक राम मोहन राय का कहना है कि दोनों शातिरों की कई दिन से तलाश की जा रही थी। उनके पास से नशीला पाउडर और नकदी बरामद हुई है। पूछताछ में उन्होंने कई ट्रेनों में लूटपाट की घटनाओं के बारे में जानकारी दी है।

Edited By: Brijesh Srivastava