प्रयागराज,जेएनएन। प्रयागराज जोन के अलग-अलग जिले में तैनात कथित तौर पर दागी 50 से अधिक पुलिस कर्मियों पर जल्द ही कार्रवाई होगी। इन सभी पर शराब माफिया, तस्कर और अवैध कारोबार से जुड़े लोगों से मिलीभगत के आरोप हैं। गोपनीय जांच के बाद पुलिस अधिकारियों ने मामले की रिपोर्ट पुलिस मुख्यालय और शासन को भेजी है, जिसके आधार पर कार्रवाई की तैयारी शुरू हो गई है। इससे प्रयागराज समेत अन्य जिलों के पुलिसर्किमयों में खलबली मच गई है।

प्रयागराज जोन में जहरीली शराब से मौत के कई मामले सामने आए

करीब दो माह पहले प्रतापगढ़, प्रयागराज और चित्रकूट जिले में जहरीली शराब से एक के बाद एक कई लोगों की मौत हुई थी। प्रयागराज के हंडिया थाना क्षेत्र में सबसे ज्यादा 14 लोगों की जान गई थी। घटना के बाद प्रथम दृष्टया दोषी पाए गए पुलिस, प्रशासन और आबकारी विभाग के कई अफसरों व कर्मचारियों को निलंबित कर दिया गया था। मगर जहरीली शराब से होने वाली मौत को लेकर उच्चाधिकारियों की भूमिका भी सवालों के घेरे में आ गई थी। छानबीन में पता चला था कि सफेदपोश, पुलिस और माफिया के गठजोड़ से अवैध शराब का कारोबार फल फूल रहा है। फिर जोन के आठों जिलों में अवैध शराब से जुड़े लोगों के खिलाफ कार्रवाई शुरू हुई तो कई चेहरे बेनकाब हो गए। बड़े-बड़े अड्डों का भंडाफोड़ हुआ था।

शासन स्‍तर से मिला था गोपनीय जांच का निर्देश

अधिकारियों का कहना है घटना के बाद ही शासन स्तर से गोपनीय जांच करने का निर्देश मिला। इसके लिए जिलेवार अलग-अलग टीमें बनाईं गईं और उनके बारे में जानकारी जुटाई गई। गोपनीय जांच में 50 से अधिक इंस्पेक्टर, दारोगा, हेड कांस्टेबल और कांस्टेबल की भूमिका संदिग्ध मिली। कुछ पुलिस कर्मियों की मदद से ही शराब माफिया व तस्कर अवैध शराब का कारोबार कर रहे थे। ऐसे लोगों की रिपोर्ट पुलिस मुख्यालय व शासन को भेजी गई है, जिन्हें जल्द ही प्रयागराज जोन से बाहर किया जाएगा।

बोले एडीजी जोन

प्रयागराज जोन के एडीजी प्रेम प्रकाश ने बताया कि गोपनीय जांच हुई थी, जिसमें कई पुलिस कर्मियों की संलिप्तता शराब के अवैध कारोबार से जुड़े लोगों के साथ होना पाया गया है। इन सभी के खिलाफ मुख्यालय स्तर से कार्रवाई शुरू हो रही है।

 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप