प्रयागराज,जेएनएन। जीवन ज्योति अस्पताल के निदेशक व सर्जन डा. एके बंसल हत्याकांड में आगे की कार्रवाई भी कोरोना के चलते अटक गई है। लखनऊ जेल में बंद शार्प शूटर मो. शोएब का न तो बयान हो सका है और न ही फरार शूटर मकसूद व अबरार की गिरफ्तारी हो सकी है।

मामले में मुख्य साजिशकर्ता आलोक सिन्हा की तलाश में गई स्पेशल टॉस्क फोर्स एसटीएफ की टीम भी कोरोना पाजिटिव हो गई है। ऐसे में वांछित अभियुक्तों का सुराग जुटा पाना अब मुश्किल हो रहा है। एसटीएफ के साथ ही पुलिस भी हत्या की साजिश रचने और कत्ल में शामिल शूटरों की जल्द गिरफ्तारी का दावा कर रही थी। कीडगंज पुलिस जेल में बंद शोएब का बयान लेने की तैयारी करती थी।

इसके लिए कोर्ट से अनुमति से लेकर जेल प्रशासन को पत्र लिखा जाना था। फिर उसके बयान के आधार पर अन्य आरोपितों के विरुद्ध कार्रवाई की जानी थी। इसी तरह फतेहगढ़ जेल में बंद पूर्व ब्लॉक प्रमुख दिलीप मिश्रा और सोनभद्र जेल में निरुद्ध शूटर अख्तर कटरा का बयान भी लिया जाना था। इन सभी के खिलाफ रिमांड और बी वारंट बनवाकर कीडगंज थाने में कायम मुकदमे में नामजदगी की जानी थी। मगर अब ये सभी प्रक्रिया बंद हो गई है।

एसटीएफ के इंस्‍पेक्‍टर समेत छह पुलिसकर्मी संक्रमित

एसपी सिटी दिनेश कुमार सिंह का कहना है कि इंस्पेक्टर कीडगंज रोशनलाल के पिता के निधन के कारण अग्रिम कार्रवाई लंबित है। वहीं, सीओ एसटीएफ नवेंदु कुमार ने बताया कि इंस्पेक्टर अतुल कुमार समेत टीम के छह जवान कोरोना संक्रमित हो गए हैं। फिर भी आरोपितों के बारे में सुराग जुटाने की कोशिश चल रही है।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021